रायबरेली: माह की अंतिम तारीख को ईपॉस मशीन में मोबाइल ओटीपी वेरीफिकेशन का विकल्प न खुलने के चलते भारी संख्या में राशनकार्ड धारक नवंबर का निश्शुल्क खाद्यान्न पाने से वंचित रह गए। यह विकल्प अब दिसंबर की सात तारीख को खुलेगा।

सार्वजनिक वितरण प्रणाली की दुकानों में लगी ईपॉस मशीन में बायोमीट्रिक प्रमाणीकरण के बाद ही राशनकार्ड धारकों को खाद्यान्न दिया जाता है। ऐसे भी कार्डधारक हैं, जिनकी उंगली या अंगूठे का बायोमीट्रिक आधार प्रमाणीकरण नहीं हो पाता। माह की अंतिम तिथि को ऐसे कार्डधारकों को खाद्यान्न देने के लिए मोबाइल ओटीपी वेरीफिकेशन का विकल्प खोला जाता है, जिसमें पहचान पत्र संख्या डालने के बाद कार्डधारक का मोबाइल नंबर डालना रहता है। मोबाइल नंबर पर एक ओटीपी आती है, इसे ईपॉस मशीन में डालने के बाद ही खाद्यान्न मशीन में खारिज होता है। नवंबर में भी भारी संख्या में कार्डधारक सार्वजनिक वितरण प्रणाली की दुकानों पर पहुंचे, जिनका बायोमीट्रिक प्रमाणीकरण नहीं हो सका था। अंतिम तिथि होने के बाद भी विकल्प नहीं खुला।

अब यह विकल्प दिसंबर की सात तारीख को खुलेगा। इस बाबत अपर आयुक्त खाद्य एवं रसद विभाग उत्तर प्रदेश लखनऊ ने पत्र जारी किया है कि नवंबर में प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के तहत कई जनपदों में गोदाम से निर्धारित तिथियों में खाद्यान्न उठान न हो पाने के कारण समस्या आई है। इसके चलते उक्त योजना के खाद्यान्न की वितरण तिथि 30 नवंबर से बढ़ाकर सात दिसंबर की जा रही है। अब नवंबर में छूटे कार्डधारक दो दिसंबर से छह दिसंबर तक आधार प्रमाणीकरण और सात दिसंबर को मोबाइल ओटीपी वेरीफिकेशन के तहत खाद्यान्न प्राप्त कर सकेंगे।

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप