रायबरेली : कार्तिक पूर्णिमा स्नान पर गंगा तटों पर मंगलवार को आस्था उमड़ पड़ी। जिले के करीब दो दर्जन घाटों पर तड़के से ही गंगा मइया के जयकारे गूंजने लगे। हर-हर गंगे उद्घोष के साथ लोगों ने डुबकी लगाई। विधिविधान से पूजा अर्चना और पुरोहितों को अन्न, वस्त्र आदि का दान देकर सुख समृद्धि की कामना की। इस दौरान डलमऊ, मुराईबाग, ऊंचाहार, लालगंज, सरेनी क्षेत्रों में जाम से भी लोगों को जूझना पड़ा। वहीं डीएम शुभ्रा सक्सेना और एसपी स्वप्निल ममगई ने गंगा घाटों का निरीक्षण स्टीमर में बैठकर किया। सरकारी महकमे के मुताबिक करीब 12 लोगों ने स्नान किया।

स्नानार्थियों पर एक नजर

वाहन - संख्या - श्रद्धालु

दोपहिया - एक लाख - ढाई लाख

बैलगाड़ी -20 हजार- दो लाख

ट्रैक्टर - 15 हजार- चार लाख

रोडवेज बस- 80 - ढाई लाख

ट्रेन - लोकल - 50 हजार

निजी चौपहिया वाहन- 15 हजार- एक लाख

साइकिल -60 हजार- 70 हजार

नोट - प्रशासन की ओर से अनुमानित आंकड़ों के अनुसार

डलमऊ में सवा छह लाख लोगों ने किया स्नान

सबसे अधिक श्रद्धालु डलमऊ गंगा तट पर पहुंचे। राजघाट, वीआइपी घाट, रानीसिवाला, पक्का, संकट मोचन, पथवारी देवी, महावीरन, राजानेवाज सिंह, छोटा मठ, बड़ा मठ घाट, तराई आदि घाटों पर करीब सवा छह लाख लोगों ने स्नान किया। बड़ा मठ में ब्रम्हचारी दिव्यानंद गिरि की देखरेख में भंडारा दिनभर चलता रहा। महामंडलेश्वर स्वामी देवेंद्रानंद ने कहा कि कार्तिक पूर्णिमा में मां गंगा की जलधारा में सभी देवता स्नान करते हैं। स्नान करने वाले साधकों को सभी देवताओं की कृपा प्राप्त होती है। नगर पंचायत अध्यक्ष बृजेश दत्त गौड़ ने सफल आयोजन पर सभी को धन्यवाद ज्ञापित किया।

कई जिलों से पहुंचे लोग

ऊंचाहार क्षेत्र के गोकना गंगा घाट पर तीन दिवसीय मेले मे फतेहपुर, प्रतापगढ़, अमेठी समेत कई जिलों से लोग पहुंचे। स्नान के साथ ही खरीदारी भी की। यहां गोकना के अलावा बादशाह घाट, गोला घाट, तीर का पुरवा घाट पर भी लोगों ने स्नान किया। इसी तरह लालगंज क्षेत्र के गेंगासो, रालपुर, शिवपुरी आदि घाटों पर लोगों ने स्नान किया।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस