लालगंज (रायबरेली): बेसहारा मवेशी सिर्फ माल ही नहीं जान के भी दुश्मन बने हैं। इसका एक ताजा उदाहरण बुधवार को सरेनी इलाके में देखने को मिला। यहां खून पसीने से सींची गई फसल को एक सांड़ चट कर रहा था। किसान उसे खदेड़ने गया तो उस पर हमला कर दिया। इस हमले में किसान की मौत हो गई।

सरेनी थाना क्षेत्र के ग्राम चांदपुर मजरे सब्जीबबुरा निवासी रामनाथ निर्मल (72) सुबह खेतों की तरफ अपने मवेशी लेकर चराने गया था। तभी उसकी नजर अपने खेत की तरफ गई, जिसमें एक सांड़ घुसकर फसल खा रहा था। उसे रौंद भी रहा था। यह देख किसान अपनी फसल को बचाने के लिए दौड़ा। खेत में जाकर सांड़ को भगाने लगा। इसी दौरान सांड़ ने उस पर हमला बोल दिया। जिससे वह गंभीर रूप से घायल हो गया। सूचना पर पहुंचे घर वाले उसे लेकर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र लालगंज आए। जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

गमगीन परिवारीजन, दहशत में ग्रामीण

घटना के बाद एक तरफ जहां रामनाथ के घर में कोहराम मचा है। मृतक के बेटे रामखेलावन, राजू, राजन, बेटी रामपती, कलापती, शिवपती व रानी का रो-रोकर हाल बेहाल है। वहीं ग्रामीणों में दहशत का माहौल है। मृतक के भांजे चंद्रिका प्रसाद ने बताया कि सांड़ इसके पहले भी गांव के कई लोगों को घायल कर चुका है। जिधर से यह सांड़ गुजरता है लोग रास्ता बदल लेते हैं, मगर जब बात फसल की सुरक्षा की आती है तो जान जोखिम में डालना किसानों के सामने मजबूरी होती है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप