रायबरेली : इस बार प्रशासन का जोर मतदान प्रतिशत बढ़ाने पर है। इसके लिए तमाम प्रयास किए जा रहे हैं। पिछले चुनाव में 50 फीसद से कम मतदान वाले बूथों पर जागरूकता कार्यक्रम का खाका खींचा गया। इन बूथों के एक-एक घर में महिला टोली की दस्तक होगी और एक-एक मतदाता को समझाने की कोशिशें भी।

अभी तक जागरूकता रैली और स्वीप के जरिए लोगों को मतदान के लिए प्रेरित किया जा रहा था। इन सबके बीच प्रशासन की नजर उन बूथों पर जहां, पिछले चुनाव में 50 फीसद से कम मतदान हुआ। विधानसभा वार बूथों की सूची तैयार की गई है। इन बूथों पर महिला टोली जाएंगी और एक-एक घर में सभी मतदाताओं से बात करेंगी। उन्हें समझाएंगी और उन्हें मतदान करने के लिए तैयार करेंगी। उनका प्रयास है कि सभी अपने अधिकार को समझे और मतदान करें। इन बूथों के युवक, युवतियों को भी प्रतियोगिता में शामिल करके उनका उत्साह बढ़ाया जाएगा। इसके साथ ही सभी बीएलओ को भी निर्देश दिए गए कि वे कम मतदान वाले बूथों के लोगों के मतदाता पहचान पत्र पहुंचाने की जिम्मेदारी निभाएं। सभी घरों में मतदाता पहचान पत्र पहुंचे, इसका ध्यान रखें। महिला टोली बनाने को मांगे नाम

नगर मजिस्ट्रेट ने जिला पंचायतराज अधिकारी, जिला पूर्ति अधिकारी, बीएसए, बीडीओ और अधिशासी अधिकारियों को पत्र भेजकर ग्राम पंचायत स्तर पर सक्रिय महिलाओं के नाम और मोबाइल नंबर सर्वोच्च प्राथमिकता में मांगे गए। एक ग्राम पंचायत 20 महिलाओं की एक टोली बनाने और इन्हीं में से महिला टोलियों को कम मतदान वाले बूथों में भी मतदान प्रतिशत बढ़ाने की जिम्मेदारी दी जाएगी। ---------------

पिछले चुनाव में 50 फीसद से कम मतदान वाले बूथों का चयन किया गया है। इन बूथों पर इस बार मतदान प्रतिशत बढ़ाने के प्रयास किए जाएंगे। इसमें महिला टोली भी अहम भूमिका निभाएंगी।

पल्लवी मिश्रा, नगर मजिस्ट्रेट

Edited By: Jagran