बारिश में चरमराई सफाई व्यवस्था, सड़कों के किनारे बिखरा कूड़ा

रायबरेली : शहर की सफाई व्यवस्था इन दिनों चरमराई हुई है। सफाई कर्मियों के हड़ताल से अधिकांश मुहल्लों में सफाई ठप है। इसके चलते मुहल्लेवासी ही नहीं, सभासद भी परेशान होने लगे हैं। मुहल्लेवासियों की शिकायतों को सुनकर अब वह भी आक्रोशित होने लगे हैं। हाल यह है कि कंटेनर के अंदर कम बाहर अधिक कूड़ा फैला हुआ है। आसपास बेसहारा मवेशियों का जमावड़ा रहता है। बारिश में स्थित और बदतर हो गई है। हालांकि राहत देने के उद्देश्य से कुछ वार्डों में पालिका की ओर से जरूर सफाई कराई गई, लेकिन यह नाकाफी है। शहर का कचहरी रोड पर एसजेएस पब्लिक स्कूल के निकट कंटेनर तो रखा है, लेकिन ज्यादातर कूड़ा बाहर ही फैला हुआ है। अब तो दुर्गंध भी आने लगी है। कंटेनर के आसपास बेसहारा मवेशियों का डेरा लगने लगा है। जिला अस्पताल में दूरदराज से तीमारदार और रोगी आते हैं। कई-कई दिन उन्हें यहां पर ठहरना पड़ता है। इस दौरान सफाई व्यवस्था बेहतर नहीं होने पर संक्रामक रोग का खतरा रहता है। जिला अस्पताल महिला में रखे कंटेनर को देखकर साफ अंदाजा लगाया जा सकता है कि कब से कूड़ा नहीं हटाया गया है। जवाहर विहार कालोनी में अलग-अलग स्थानों पर दो कंटेनर रखे हैं। यहां की दशा भी बेहद खराब है। स्थानीय लोगों का कहना है कि डोर टू डोर कूड़ा लेने के लिए गाड़ी तो आती है, लेकिन कुछ दिनों से सफाई कर्मी नहीं दिखे। सफाई व्यवस्था को पटरी पर लाने की कवायद चल रही है। वर्तमान में 80 श्रमिक लगाए गए हैं। जल्द ही कुछ और श्रमिकों की व्यवस्था कराकर वार्डवार सफाई कराई जाएगी। डा. आशीष कुमार सिंह, अधिशासी अधिकारी

Edited By: Jagran