रायबरेली : मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने वीडियो कांफ्रेंसिग के माध्यम से ग्रामीण भारत को सड़कों से जोड़ने वाली प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के तहत 251.83 लाख की परियोजनाओं का तोहफा दिया। जिला पंचायत द्वारा पेवर हाटमिक्स प्लांट से सात ब्लाकों में सड़कों का निर्माण होना है।

इससे पहले मुख्यमंत्री ने योजना के तहत 4130.27 करोड़ की लागत से 886 ग्रामीण मार्गों के निर्माण और 155 करोड़ से 692 ग्रामीण मार्गों के नवीनीकरण कार्य का लोकार्पण रिमोट के जरिए किया। गांवों के विकास की रफ्तार खुशहाली की ओर रोजगार, के तहत जिला पंचायत के अंतर्गत हाट मिक्स पद्धति से 195.07 करोड़ से 537.82 किमी लंबे 509 ग्रामीण मार्गों का लोकार्पण और 33.75 करोड़ की लागत से 48.62 किमी लंबे 14 ग्रामीण मार्गों का शिलान्यास किया।

कलेक्ट्रेट स्थित एनआइसी सभागार में जिला पंचायत अध्यक्ष रंजना चौधरी, एमएलसी दिनेश प्रताप सिंह, विधायक राम नरेश रावत, जिलाधिकारी वैभव श्रीवास्तव, मुख्य विकास अधिकारी ईशा प्रिया, अपर मुख्य अधिकारी धर्मेंद्र कुमार, सहायक अभियंता जेएन श्रीवास्तव आदि के साथ विभिन्न योजनाओं के लाभार्थियों ने मुख्यमंत्री के आयोजित कार्यक्रम का सजीव प्रसारण भी देखा। इस दौरान उन्होंने चंदई के लाभार्थी से कुशलक्षेम पूछा। कहा कि सभी लोग परस्पर सामंजस्य बनाकर विकास कार्यों को गति प्रदान करें।

सर्वर ने दिया धोखा, दो घंटे तक करते रहे इंतजार

फोटो, 25

महराजगंज: मुख्यमंत्री की वीडियो कांफ्रेंसिग को लेकर हरचंदपुर मोड़ के पास बकायदा टेंट लगा था। अधिकारियों के साथ ही लाभार्थी भी समय से पहुंच गए। सुबह 10:45 बजे तक कनेक्टिविटी नहीं मिली। इसके बाद सभी को ब्लाक कार्यालय ले जाया गया। वहां पर लैपटाप के माध्यम से उन्हें जोड़ा गया। वहीं, बात न हो पाने पर संतराम, राकेश कुमार, अवनीत सिंह, शैलेंद्र कुमार, अमित कुमार वर्मा, मंजू देवी, जितेंद्र यादव, सुरेश कुमार मायूस दिखे। तहसीलदार अनिल पाठक, बीडीओ प्रवीण कुमार, राजस्व निरीक्षक श्रीकांत पांडे, क्षेत्रीय खाद्य अधिकारी एसके सरोज आदि मौजूद रहे।

Edited By: Jagran