संसू, महराजगंज (रायबरेली) : कोतवाली क्षेत्र के सलेथू गांव में जमीन विवाद को लेकर बवाल हो गया। दोनों पक्षों से एक सैकड़ा लोग आमने-सामने आ गए। तहसीलदार के सामने गाली-गलौच और मारपीट हुई। कोतवाल की सख्ती पर माहौल शांत हो सका।

मामला गांव में साढ़े चार बीघे भूखंड पर कब्जे को लेकर है। गांव के पूर्व प्रधान इसरार हुसैन, धीरेंद्र तिवारी, अनिरुद्ध तिवारी, सुनील तिवारी समेत दर्जनभर लोगों का आरोप है कि गांव की बेशकीमती जमीन, जो पुराने अभिलेखों में ग्राम समाज की संपत्ति में दर्ज थी, राजस्व कर्मचारियों की मिलीभगत से गांव के ही सेवाकांत तिवारी के नाम दर्ज कर दी गई। इस संबंध में पूर्व प्रधान इसरार ने जिलाधिकारी व उपजिलाधिकारी से शिकायत की थी। मामले की पत्रावली न्यायालय उपजिलाधिकारी के यहां विचाराधीन है। शिकायतकर्ताओं का कहना है कि तहसीलदार विनोद ¨सह ने इस संपत्ति को सेवाकांत के नाम से खारिज करने की संस्तुति भी कर दी है। बावजूद अधिकारी हीलाहवाली कर रहे हैं। इसको लेकर शिकायतकर्ता मंगलवार को गांव में ही धरने पर बैठने की तैयारी कर रहे थे।

इसकी सूचना पर तहसीलदार व कोतवाल मौके पर पहुंच गए। अधिकारी ग्रामीणों से बात कर रहे थे कि तभी दूसरे पक्ष से भी लगभग आधा सैकड़ा लोग वहां आ गए। देखते ही देखते दोनों पक्षों में विवाद शुरू हो गया। विवाद बवाल में बदल गया। कुछ लोगों ने पूर्व प्रधान के चचेरे भाई इब्राहिम की पिटाई कर दी। पुलिस ने हस्तक्षेप कर मारपीट करने वालों को दौड़ा लिया। साथ ही हिदायत दी कि किसी ने कानून तोड़ा तो उसे पकड़कर जेल भेज दिया गया। तब कहीं जाकर माहौल शांत हो सका। कोतवाल ने बताया क इब्राहिम के भाई मो मुकीम की तहरीर पर ग्राम प्रधान जयप्रकाश साहू, उनके भाई रामप्रकाश साहू के अलावा शिवाकांत तिवारी, मनीष तिवारी, मनोज तिवारी के विरुद्ध मुकदमा दर्ज किया गया है। आरोपितों की तलाश की जा रही है। तहसीलदार विनोद ¨सह ने बताया कि जमीन का मामला उपजिलाधिकारी के पास विचाराधीन है। उनके आदेशानुसार कार्यवाही की जाएगी। शिकायतकर्ताओं का आरोप गलत है। सेवाकांत की पैत्रृक भूमि को ग्राम समाज की जमीन बताकर विवाद किया जा रहा है। राजनीतिक द्वेष के तहत ऐसा किया जा रहा है।

-जय प्रकाश साहू, ग्राम प्रधान, सलेथू

Posted By: Jagran