रायबरेली, जेएनएन। शिक्षा के क्षेत्र में एक बार फिर जिले का नाम देश के पटल पर चमक उठा। सीबीएसई बोर्ड हाईस्कूल में अर्जित आलोक श्रीवास्तव ने ऑल इंडिया में तीसरा स्थान हासिल किया है। उसे 500 में से 497 अंक मिले। कोटा में इंजीनियरिंग की तैयारी कर रहे अर्जित को जब रिजल्‍ट की जानकारी हुई तो वो खुशी से झूम उठा। मोबाइल पर बातचीत के दौरान उसने इस सफलता का श्रेय माता-पिता और शिक्षकों को दिया। भविष्य में आइएएस बनने की बात भी कही।

यूपीएससी क्रेक करना है लक्ष्‍य

अर्जित ने कहा कि मेरा काफी अच्‍छा रिजल्‍ट आया है, इसका क्रेडिट अपनी फैमिली को देना चाहता हूं। सेल्‍फ स्‍टडी को ध्‍यान देना चाहिए। ऐवरेज पांच छह घंटा सेल्‍फ स्‍टडी को देना चाहिए।उससे कम में दिक्‍कत हो सकती है।मैं रोज सात घंटे का समय देता था।आइआइटी इंजीनियर बनना चाहता हूं। उसके बाद यूपीएससी क्रेक करना है। मैं बहुत संतुष्‍ट हूं देखता हूं क्‍या होता है।

बधाई देने का लग गया तांता

सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजुकेशन के हाईस्कूल के परीक्षा परिणाम पर सबकी निगाहें लगी हुई थी। रविवार को परिणाम स्थगित होने जाने के कारण हर कोई मतदान के बाद घोषणा होने की उम्मीद लगाए हुए था। अचानक दोपहर बाद करीब तीन बजे सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजुकेशन ने घोषणा कर दी। अधिकांश विद्यालयों में मतदान केंद्र होने के नाते शिक्षक और छात्र भी असमंजस में पड़ गए। जैसे तैसे परिणाम निकाला गया। इसमें जैसे ही पता चला कि अर्जित आलोक श्रीवास्तव ने ऑल इंडिया टॉप थ्री रैंक हासिल की है तो जिला झूमा उठा। वैदिक इंटर कॉलेज के निकट आवास पर बधाई देने वालों का तांता लग गया।

एसजेएस के छात्र अर्जित को 500 में से 497 अंक हासिल किए। इसमें तीन विषय में पूरे अंक मिले। वहीं अंग्रेजी में 8, जबकि विज्ञान में 9 अंक मिले। हिंदी, गणित, समाजिक विज्ञान में 100 में 100 अंक हासिल किए। अर्जित के पिता आलोक श्रीवास्तव उन्नाव में सहायक चकबंदी अधिकारी और मां मीना श्रीवास्तव प्राथमिक विद्यालय हरदासपुर में शिक्षिका हैं। छोटी बहन कक्षा छह की छात्रा है। इस सफलता से परिवार में खुशी का माहौल है।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Divyansh Rastogi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस