रायबरेली : जिले में सौभाग्य योजना का काम करा रही लॉर्सन एंड टुब्रो लिमिटेड (एल एंड टी) कंपनी के दो सुपरवाइजरों के साथ मारपीट की गई। यही नहीं, उन्हें जान से मारने की धमकी भी मिली है। पिटे कर्मचारियों का कसूर सिर्फ इतना था कि वे बरामद हुए चोरी गए बिजली के खंभे उठाने गए थे। इस घटना के बाद कंपनी के कर्मचारियों में दहशत का माहौल है।

घटना हरचंदपुर थाना क्षेत्र की है। कंपनी की ओर से पैड़ेपुर और बाला गांव में नई बिजली की लाइन डाली जानी थी। इसके लिए पैड़ेपुर में 25 और बाला में 50 बिजली के खंभे गिरवाए गए थे। इनमें से करीब 25 बिजली के खंभे एक-एक कर धीरे-धीरे एक महीने के अंदर चोरी हो गए। इनकी तलाश कंपनी के कर्मचारी कर रहे थे। सोमवार को कंपनी के सुपरवाइजर रवि प्रताप मौर्य और राहुल कुमार ने इटकुटी में चार बिजली के खंभे खोज निकाले। ये खंभे एक निजी नलकूप के पास पड़े थे। आरोप है कि जब कर्मचारी खंभे उठाने लगे तो गांव के ही राकेश यादव ने अपने चार अन्य साथियों के साथ मिलकर उनकी पिटाई कर दी। यही नहीं उन्हें जान से मारने की धमकी भी दी। बताते हैं कि कर्मचारियों ने जब यूपी-100 पर सूचना दी तो पहुंचे पुलिस कर्मी भी कार्रवाई की जगह सुलह का दबाव बनाने लगे। हालांकि, इसके लिए कर्मचारी राजी नहीं हुए। बाद में कंपनी के अभियंता गौरव सिंह ने मामले की तहरीर थाने में दी।

चिन्हित किए जा रहे हैं चोर : कंपनी के एरिया मैनेजर एए सिद्दीकी ने बताया कि जिन्होंने भी बिजली के खंभे चुराए हैं, उन्हें चिन्हित किया जा रहा है। कई नलकूपों के मालिकों के नाम सामने आए हैं। इनके खिलाफ एफआइआर लिखाई जाएगी। हरचंदपुर थानाध्यक्ष राज कुमार सिंह ने बताया कि मामला संज्ञान में नहीं है। जिनके साथ मारपीट हुई है, वह थाने में आकर रिपोर्ट दर्ज करा दें। फिर मामले को देखा जाएगा।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप