एसीएमओ ने फिनिक्स अस्पताल के खिलाफ शुरू की जांच

रायबरेली : नेहरू नगर स्थित फिनिक्स अस्पताल के खिलाफ स्वास्थ्य विभाग ने जांच शुरू कर दी है। आरोप है कि अस्पताल में लापरवाही के कारण प्रसूता की हालत बिगड़ गई थी। इसके लखनऊ में इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई। प्रकरण में मृतका के परिवारजन कलेक्ट्रेट पहुंचकर जमकर हंगामा किया था। इसके बाद सीएमओ ने टीम गठित करते हुए जांच के निर्देश दे दिए। एसीएमओ ने हास्पिटल पहुंचकर आरोपों की सत्यता को परखा। साथ ही मौजूद कर्मियों से पूछताछ की। मामला डीह ब्लाक के टेकारी दांदू गांव का है। आरोप है कि शांती देवी को प्रसव पीड़ा होने पर आशा बहू लेकर जिला अस्पताल पहुंची। वहां पर भर्ती न कराकर फिनिक्स हास्पिटल लेकर चली गई। प्रसव के बाद शांती की हालत बिगड़ने पर यहां से रेफर कर दिया गया। लखनऊ में इलाज के दौरान मौत हो गई। इसके बाद परिवारजन डीएम कार्यालय के सामने पहुंचकर हंगामा करने लगे। प्रसूता के मौत पर हास्पिटल संचालक के साथ आशा बहू और एंबुलेंस चालक पर गंभीर आरोप लगाए। सीएमओ के निर्देश पर प्रकरण की जांच कर रहे एसीएमओ डा. अरविंद कुमार ने बीते दिनों फिनिक्स हास्पिटल पहुंचकर सुविधाओं का जायजा लिया। साथ ही मौजूद कर्मियों से पूछताछ की। मृतका के परिवारजन पर उठे सवाल मृतका के परिवारजन गांव की आशा बहू पर मनमानी करने का आरोप लगा रहे हैं, जबकि अब तक जांच में कुछ और ही सामने आया है। एसीएमओ की माने तो मृतका को अमेठी जिले के जिला अस्पताल गौरीगंज से रेफर किया गया था। जिला अस्पताल रायबरेली में लखनऊ के लिए रेफर कर दिया गया। इसके बाद वह फिनिक्स हास्पिटल कैसे पहुंची और वहां से लखनऊ के दूसरे निजी अस्पताल में कौन ले गया इसकी जांच चल रही है। मृतका के परिवारजन के आरोपों की जांच चल रही है। जिला अस्पताल गौरीगंज से रेफर होने के बाद यहां पर लाया गया था। यहां से रेफर होने के बाद किन परिस्थितियों में फिनिक्स या फिर लखनऊ के दूसरे निजी अस्पताल ले जाया गया इसका पता लगाया जा रहा है। दोनों पक्ष के बयान लेने के बाद ही कुछ कहा जा सकता है। अरविंद कुमार, एसीएमओ

Edited By: Jagran