ऊंचाहार (रायबरेली) : अमेठी और सलोन की जनता ने स्मृति ईरानी को जिताया तो वहां की लंबित योजनाओं को पंख लग गए। ऊंचाहार-अमेठी रेल लाइन की कवायद शुरू कर भाजपा यहां के लोगों को तोहफा देने जा रही है। जिन गांवों से होकर रेल लाइन गुजरेगी उनके राजस्व अभिलेख रेल मंत्रालय ने मांगे हैं। जिससे लोगों में आस जगी कि अब यह योजना धरातल पर दौड़ेगी।

ऊंचाहार के अरखा रेलवे स्टेशन से सलोन होते हुए अमेठी तक रेल लाइन बिछाने की घोषणा यूपीए सरकार के पहले कार्यकाल में हुई थी। इसकी कवायद भी शुरू हुई, लेकिन यह योजना धरातल पर नहीं उतर सकी थी। 2014 में केंद्र में सत्ता परिवर्तन के बाद इस परियोजना की चर्चा तक नहीं हुई थी। अमेठी से भाजपा की स्मृति ईरानी चुनाव जीतीं तो इस परियोजना को भी पंख लग गए। घोषणा के बाद अमेठी, सलोन और ऊंचाहार के लोगों ने धीरे-धीरे आस छोड़ दी थी कि इन क्षेत्रों से होकर कभी रेल दौड़ेगी, लेकिन रेल मंत्रालय के राजस्व अभिलेख मांगते ही उम्मीदें फिर जिदा हो गईं। रेल मंत्रालय ने रेल लाइन के रास्ते में आने वाले गांवों के राजस्व अभिलेख तलब किए हैं। ऊंचाहार तहसील के गांव अरखा, माधौपुर सुल्तान, सरगपुर डिहवा, लक्ष्मणगंज, हमीदपुर बड़ा गांव, मवई, बेहरामऊ, मोखरा, गंगश्री, बड़ई, बछईयापुर, गौरा, आइमा जहनिया, ब्रहमजीतपुर, नारायणपुर, उसरैना समेत करीब दो दर्जन गांवों की वर्तमान खसरा खतौनी को रेल मंत्रालय ने मांगा है। तहसील में सभी लेखपालों को उपरोक्त गांवों के खसरे को वर्तमान स्थित दर्ज करने का निर्देश दिया गया है। एसडीएम केशव गुप्ता का कहना है कि सभी राजस्व अभिलेखों को दुरुस्त किया जा रहा है।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Edited By: Jagran