प्रतापगढ़ : लगभग छह महीने पहले पंप मालिक की हत्या की सुपारी एक 50 हजार के इनामी बदमाश ने ली थी। दो बार उनसे पीछा भी किया था, लेकिन मौका नहीं मिलने से बदमाश चूक गया।

शहर के पुरानी आबकारी मोहल्ला निवासी अमर ¨सह उर्फ विकास ¨सह पेट्रोल पंप व भट्ठा मालिक है। विकास के अनुसार आठ अगस्त 2018 को रात साढ़े आठ बजे से साढ़े नौ बजे तक दो पल्सर से पांच बदमाश उनके घर के पास टहल रहे थे। नौ अगस्त को रात में फिर बदमाश आए। आहट पाकर घर की महिलाओं के शोर मचाने पर बदमाश असलहा लहराते हुए भाग गए थे। इस मामले में विकास ने एसपी से शिकायत की थी, हालांकि पुलिस अब तक बदमाशों को ट्रेस नहीं कर सकी है। इस बीच सूत्रों की माने तो पचास हजार के एक इनामी बदमाश ने विकास की हत्या की सुपारी ली थी। यह पता लगाया जा रहा है कि सुपारी किसने दी थी। इस मामले में विकास ने पुलिस अफसरों को जानकारी दी है।

पिता ने घर से भगा दिया था हसन मुल्ला को : फरवरी 2018 में सपा नेता मनीष पाल के भाई आशीष उर्फ जान पाल की हत्या करने के बाद हसन मुल्ला देवबंद चाचा मौलाना शब्बीर के पास भाग गया था। शब्बीर वहां मदरसे में शिक्षक है। वहां से लौटने के बदा हसन मुल्ला घर गहरी (लालगंज) गया था। पिता रईस उर्फ शब्बीरूद्दीन को जब यह जानकारी हुई कि उसने हत्या की है तो उन्होंने बेटे हसन मुल्ला को घर से भगा दिया। इसके बाद से वह दोस्त अशरफ के घर आजाद नगर में रहने लगा। वर्ष 2016 में इसने अबुल कलाम इंटर कालेज से इंटर पास किया था। इस समय वह उड़ैयाडीह के एक कालेज में बीए द्वितीय का छात्र है। जान पाल की हत्या के बाद सना मुल्ला ने पीछे मुड़कर नहीं देखा। जोगापुर में आटो मोबाइल के व्यापारी और रानीगंज के सचौली में किराना व्यापारी को गोली मारकर लूट किया। कंधई के को¨चग सेंटर संचालक अतुल शुक्ला, जेल के हेड वार्डर हरि नारायण की हत्या में भी वह शामिल था। रविवार को कोर्ट में पेशी के बाद उसे जेल भेज दिया गया।

Posted By: Jagran