प्रतापगढ़ : पुलिस भी कभी-कभी गजब करती है। ऐसा ही एक मामला सांगीपुर क्षेत्र में हुआ। यहां सरकारी राशन की कालाबाजारी की सूचना देने वालों को ही पुलिस ने पकड़ लिया। इसकी जानकारी होने पर बड़ी संख्या में ग्रामीण थाने पहुंच गए और विरोध प्रदर्शन किया। करीब घंटे भर चला हंगामा सीओ के समझाने पर किसी तरह शांत हुआ। पुलिस ने यह कार्रवाई तब की, जब शिकायत पर 11 बोरी चावल की बरामदगी भी हो चुकी थी। अब पुलिस कह रही है कि पूर्ति निरीक्षक ने जानलेवा धमकी की तहरीर दी थी, उस आधार पर शिकायतकर्ताओंको पकड़ा गया है।

सांगीपुर थाना क्षेत्र के सिंहनी गांव के कोटेदार रामबरन द्वारा बुधवार दोपहर तांगे से सरकारी चावल की 11 बोरियां को बाजार ले जाते समय ग्रामीणों ने पकड़ लिया था। ग्रामीणों ने कोटेदार पर सरकारी राशन के कालाबाजारी का आरोप लगाते हुए हंगामा शुरू कर दिया था। मामले की सूचना ग्रामीणों ने पूर्ति निरीक्षक व पुलिस को दी थी। जानकारी पर पहुंची पुलिस ने ग्रामीणों को समझाकर शांत करा दिया था। इधर मामला शांत होने के बाद कोटेदार ने बाजार में ले जाकर सरकारी राशन बेच दिया। उधर, पुलिस कोटेदार की शिकायत करने वाले सिंहनी गांव के हनुमत सिंह, क्षेत्र पंचायत सदस्य रणजीत सिंह, धीरेंद्र सिंह और सरकारी राशन खरीदने वाले जोखू सिंह को हिरासत में ले लिया। इसकी जानकारी जब गांव के लोगों को हुई तो आक्रोशित राम सिंह, हरीश सिंह, रमाशंकर सिंह, राजेश, इंद्र बहादुर सिंह, अतुल, विकास, यादव विजय, बहादुर सिंह, पूरन धुरिया, बाबू राम, महेंद्र गुरुवार सुबह थाने पहुंच गए। शिकायतकर्ताओं को छोड़ने के लिए प्रदर्शन करने लगे। सूचना मिलने पर पहुंचे सीओ जगमोहन के समझाने व जांच कराकर उचित कार्रवाई का आश्वासन देने पर ग्रामीण शांत हुए। एसओ सतीश कुमार का कहना है कि गांव के कोटेदार रामबरन द्वारा सरकारी राशन बेचे जाने की ग्रामीणों ने शिकायत की थी। शिकायत को संज्ञान में लेने के बाद किठावर बाजार के जोखू राम की दुकान से 11 बोरी राशन की बरामदगी की गई। जोखूराम को पूछताछ के लिए थाने लाया गया है। कोटेदार की तलाश की जा रही है। शिकायतकर्ताओं के थाने उठा लाने की बात पर एसओ का कहना है कि पूर्ति निरीक्षक ने बुधवार को तहरीर देकर हनुमत, रणजीत व धीरेंद्र पर जानलेवा धमकी देने का आरोप लगाया है। इस पर इन सभी को पूछताछ के लिए थाने लाया गया है। जांच कर उचित कार्रवाई की जाएगी। डीएसओ सुनील कुमार ने बताया कि मामले की जांच में तहसीलदार व दो पूर्ति निरीक्षक लगे हुए हैं। रिपोर्ट आने के बाद कोटेदार के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021