प्रतापगढ़ : जिले भर में धान की खरीद क्रय केंद्रों पर शुरू हो गई है। इसमें केंद्र प्रभारी जमकर मनमानी भी कर रहे हैं। मनमानी का आलम यह है कि कोई केंद्र प्रभारी बिना सूचना दिए केंद्र से गायब रहता है तो कोई अपनी जगह किसी प्राइवेट कर्मचारी को खरीद करने में लगा दिया है। अफसरों के निरीक्षण में इस तरह की मनमानी सामने आई है, जिसपर विभाग ने शिकंजा कसते हुए इन पर अंकुश लगाने के लिए नया प्रयोग किया है। पीसीएफ के प्रत्येक केंद्र पर एक-एक नोडल अधिकारी तैनात किया गया है। इनमें कुल 26 केंद्रों पर अफसरों की तैनाती की गई है।

दैनिक जागरण द्वारा क्रय केंद्रों पर की गई पड़ताल को अफसरों ने संज्ञान में लिया है। जिसमें पीसीएफ के केंद्र सराय बहेलिया पर एडीओ सहकारिता आंचल, सराय नाहर राय, मानधाता पर राजेश सिंह मौर्य, सराय देवराय पर मनीष कुमार, रेड़ीगारापुर व गौरामाफी पर अमरनाथ वर्मा, दाउदपुर व उदईशाहपुर पर सपना अग्रवाल, कूराडीह पर दिलीप सिंह, उतरास व बरौली पर अमरनाथ उपाध्याय, बसूआपुर व सांगीपुर पर राम बिलास, दहिला पट्टी पर राजेंद्र तिवारी, बारो व मलावा छजईपुर पर आजाद सिंह, सांडा हर्षपुर पर रोहित वर्मा, राजापुर पर अजय मौर्य, छेमर सरैयापुर पर संतोष कुमार यादव, खूंझीकला पर सोनल, सारडीह पर अजय सिंह, परसनी पर उमेश कुमार यादव को नामित किया गया है। अफसरों के मुताबिक इन सभी अफसरों को रोजाना केंद्रों पर जाकर खरीद के बारे में जानकारी कर रिपोर्ट एडीएम समेत एआर कोआपरेटिव को देनी होगी।

--

राडार पर प्राइवेट एजेंसियों के अफसर

धान की खरीद में प्राइवेट एजेंसिया यानि कर्मचारी कल्याण निगम, यूपी एग्रो के केंद्र प्रभारी मनमानी कर रहे हैं। खास बात यह है कि मनमानी की रिपोर्ट भेजने के बाद भी एजेंसियों के अफसर उस पर कोई कार्रवाई नहीं किया। ऐसे में इन दोनों एजेंसियों के जिला प्रबंधकों पर कार्रवाई के आसार है। डीएम ने भी इनको तलब किया है।

--

जो केंद्र प्रभारी धान खरीद में लापरवाही बरत रहे हैं, उनको नोटिस जारी हो रही है। पीसीएफ के केंद्र प्रभारियों पर अंकुश लगाने के लिए नोडल अफसर तैनात किए गए हैं। वह खरीद व उनकी गतिविधियों पर नजर रखेंगे।

-धनंजय सिंह, डिप्टी आरएमओ

--

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस