संसू, कुंडा : खेत की रखवाली कर रहे बीएसएनएल के रिटायर्ड लाइनमैन की बड़ी बेरहमी से हत्या कर दी गई। जमीन के विवाद में पत्थर व सब्बल से मारकर उसकी जान ले ली गई। उसके बेटे ने परिवार के ही चार लोगों पर इस घटना को अंजाम देने का आरोप लगाते हुए मुकदमा दर्ज कराया है।

हथिगवां थाना क्षेत्र के समसपुर लोहारन का पुरवा गांव का 65 साल का धुन्नी लाल यादव दूरसंचार विभाग में लाइनमैन था। पांच वर्ष पूर्व वह सेवानिवृत्त होकर गांव आया तो घर से सौ मीटर दूर आम के पेड़ के नीचे छप्पर डालकर रहने लगा। कुछ मवेशियों को भी पाल लिया। स्वजन प्रतिदिन खाना-पानी पहुंचाते थे। धुन्नीलाल के बड़े बेटे कृष्ण स्वरूप की चार वर्ष पूर्व बीमारी से मौत हो गई थी, जबकि छोटा बेटा धीरेंद्र कुमार यादव परिवार के साथ रहता है। बेटियों में केशव कुमारी व छोटी बेटी मंजू देवी की शादी हो चुकी है। धीरेंद्र बुधवार को गांव से गई बरात में शामिल होने के लिए प्रयागराज के सोरांव थाना क्षेत्र के शिवपुरा गांव गया हुआ था। गुरुवार की भोर धुन्नी लाल की बड़ी बहू ऊषा देवी जब बाग में पहुंची तो चारपाई पर धुन्नी लाल का रक्तरंजित शव देखकर चीख पड़ी। मौके पर भीड़ लग गई। धुन्नी के सिर को पत्थर या किसी वजनदार सामान व सब्बल से कूंचा गया। सीने पर किसी धारदार हथियार से हमला किया गया था। हत्या की जानकारी मिलते ही हथिगवां पुलिस मौके पर पहुंची। प्रभारी सीओ सदर पवन कुमार द्विवेदी, कुंडा कोतवाल प्रदीप कुमार भी आए। दिन में करीब नौ बजे एएसपी पश्चिमी रोहित मिश्रा फील्ड यूनिट की टीम के साथ पहुंचे व छानबीन शुरू कर दी। पुलिस को धीरेंद्र ने बताया कि पिता की हत्या जमीन के विवाद को लेकर परिवार व गांव के चार लोगों ने गोली मारकर एवं सब्बल से की है। एक पखवारा पूर्व उसके भाई रामकुमार व भैयाराम समेत अन्य ने जान से मारने की धमकी दी थी। उन्हीं लोगों ने मारा है। पुलिस ने दोनों आरोपितों के साथ ही अरुण, तूफान, शंकर लाल के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज किया। एसओ हथिगवां चंद्रभान सिंह ने बताया कि मुकदमा दर्ज कर आरोपितों की तलाश की जा रही है। इसके लिए दो टीमें बनाई गई हैं। गोली पर संदेह

रिटायर्ड लाइनमैन के बेटे ने पिता को गोली भी मारे जाने का आरोप लगाया है। मौके पर गोलीनुमा धातु की चीज मिली है। पुलिस ने इसे ताबीज बताया है। इसके आधार पर हमलावरों तक पहुंचने की वह कोशिश में है। गोली की बात तो पोस्टमार्टम होने के बाद ही साफ हो सकेगी। कई नंबर लगे सर्विलांस पर

धुन्नीलाल हत्याकांड का राज खोलने में कई मोबाइल नंबर मददगार हो सकते हैं। पुलिस ने धुन्नी, उसके बहू-बेट समेत कुछ अन्य के नंबर जांच में लगा दिए हैं। धुन्नी सेवानिवृत्त होने के बाद स्वजनों से कोई खास मतलब नहीं रखता था। भैरव बाबा मंदिर दर्शन के लिए जाता था। गांव के लोग उसे बहुत सम्मान देते थे। छोटे बेटे को खरीदा था वाहन

धुन्नी लाल जब सेवानिवृत्त होकर जब घर लौटा तो छोटे बेटे धीरेंद्र को तीन लाख रुपये देकर पिकप गाड़ी खरीदी। उसी गाड़ी को चलाकर वह अपना व अपने परिवार का जीवन-यापन कर रहा था। बरात में धीरेंद्र अपनी गाड़ी लेकर हुआ था। वहां पर पिता की हत्या की खबर सुनकर वह सुबह वहां से घर लौट आया था।

Edited By: Jagran