प्रतापगढ़ : कुकुआर गांव में शनिवार को सड़क दुर्घटना में मृत रीना देवी का शव रखकर परिजनों ने दोपहर पट्टी-कोहड़ौर मार्ग पर जाम लगा दिया और पांच सूत्रीय मांग को लेकर वहीं धरने पर बैठ गए। इससे करीब तीन घंटे तक अफरा-तफरी का माहौल रहा।

कुकुआर गांव निवासी रीना देवी (40) पत्नी प्रेमचंद्र शनिवार शाम पट्टी के एक निजी विद्यालय से काम करके घर आ रही थी। जैसे ही वह टेंपो से उतरी, वैसे ही तेज रफ्तार मालवाहक मैजिक ने उन्हें टक्कर मार धी, जिससे उसकी मौत हो गई थी। रविवार को दोपहर करीब एक बजे पोस्टमार्टम के बाद शव लाया गया तो परिजनों ने कोहड़ौर-पट्टी मार्ग पर शव रखकर जाम लगा दिया।

सिपाही पर किए गए हमले में मृतका के परिजनों समेत ग्रामीणों दर्ज किए गए मुकदमे को लेकर लोगों में आक्रोश था। मृतका के परिजन मुकदमा समाप्त करने, आर्थिक सहायता व आवास की मांग को लेकर धरने पर बैठ गए। जाम की जानकारी एसडीएम डीपी सिंह, सीओ नवनीत नायक मौके पर पहुंचे और परिजनों से बातचीत शुरू की, लेकिन कोई नतीजा नहीं निकल सका। करीब तीन घंटे तक चली मशक्कत के बाद मृतका के परिजनों को आवास, आवास के लिए जमीन, आर्थिक मदद और दर्ज मुकदमे को वापस लेने का एसडीएम, सीओ ने आश्वासन दिया, तब कहीं जाकर शाम लगभग चार बजे जाम समाप्त किया गया। इसके बाद परिजन शव लेकर घर चले गए। इसके बाद आवागमन बहाल हो सका।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप