प्रतापगढ़ : एक जनपद एक उत्पाद (ओडीओपी) योजना में जिला उद्योग विभाग युवाओं व अकुशल कारीगरों को प्रशिक्षण देकर उन्हें रोजगार से जोड़ेगा। प्रशिक्षण के तहत उन्हें बकायदा मानदेय भी दिया जाएगा। इसके पीछे विभाग की मंशा है जिले में ओडीओपी योजना के तहत लोगों को प्रशिक्षण देकर उन्हें रोजगार से जोड़ना है। ताकि शासन की यह योजना जिले में सफल हो सके। शासन ने एक जनपद एक उत्पाद योजना में जिले से आंवले को चुना गया। इससे जिले में आंवले का उद्योग बढ़ाने के लिए सितंबर 2018 में योजना लांच की गई। इसमें से अभी तक आधा दर्जन से अधिक उद्यमियों को योजना का लाभ दिया जा चुका है। वह बकायदा आंवले का उद्योग लगाकर कई लोगों को रोजगार दे रखा है। योजना को और बढ़ावा मिले। लोगों को अधिक से अधिक रोजगार मिले, इसके लिए ओडीओपी योजना में अकुशल कारीगरों व युवाओं को प्रशिक्षण देकर उन्हें रोजगार से जोड़ने की तैयारी चल रही है। दर्जन भर से अधिक लोगों ने आवेदन भी कर रखा है। इसके बाद उनका चयन किया जाएगा। चयन के बाद उन्हें उद्योग लगाने के लिए ऋण भी उपलब्ध कराया जाएगा।

25 लाख से 1.50 करोड़ मिलता है ऋण : ओडीओपी योजना में आंवले का उद्योग लगाने के लिए बड़े पैमाने पर ऋण बैंक देती है। इसमें 25 लाख से लेकर 1.50 करोड़ रुपये तक ऋण दिए जाने का प्रावधान है। इस ऋण से केवल आंवले का ही उद्योग लगाने का प्रावधान है।

21 फरवरी तक जमा होगा आवेदन : ओडीओपी योजना में प्रशिक्षण प्राप्त करने के लिए जिला उद्योग कार्यालय में आवेदन करना होगा। आवेदन फार्म जमा करने की अंतिम तिथि 21 फरवरी निर्धारित की गई है। इसके बाद फार्म चयन समिति के माध्यम से लोगों को फ्री में प्रशिक्षण प्रदान किया जाएगा।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप