प्रतापगढ़, (जेएनएन)। लोकसभा चुनाव में चुनाव आयोग की सख्ती का असर दिखने लगा है। प्रतापगढ़ में कल बिना अनुमति के सभा कर रहे बहुजन समाज पार्टी के लोकसभा प्रभारी अशोक त्रिपाठी सहित उसके 68 समर्थकों के खिलाफ आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन का मामला दर्ज किया गया है।

प्रतापगढ़ में सेक्टर मजिस्ट्रेट प्रदीप कुमार वर्मा पर शहर में दौरा कर रहे थे। इसी दौरान रानीगंजकैथौला के साथ लालगंज कोतवाली के वर्मा नगर में मकान के हाल में बिना प्रशासनिक अनुमति के सपा और बसपा के कार्यकर्ताओं की बैठक चल रही थी। इस बीच किसी ने प्रशासन से शिकायत कर दी। एसडीएम के निर्देश पर सेक्टर मजिस्ट्रेट प्रदीप तथा एसएसआई कृपाशंकर राय भारी फोर्स के साथ मौके पर पहुंच गये। इस दौरान सेक्टर मजिस्ट्रेट ने हॉल में हो रही राजनीतिक गतिविधियो की वीडियोग्राफी करायी और एसडीएम को अपनी रिपोर्ट भेज दी। सेक्टर मजिस्ट्रेट और पुलिस ने जब आयोजकों से कार्यक्रम के लिए ली गई प्रशासनिक अनुमति मांगी तो कुछ भी नहीं दिखा सके। वहां हंगामा शुरू हो गया। अचानक पुलिस को देख लोग कुछ इधर-उधर भागने लगे।

हंगामे के बीच यहां मौजूद सपा बसपा नेताओं व अफसरों के बीच काफी नोकझोंक भी हुई। वहीं पुलिस व प्रशासन ने कार्यक्रम को बंद करा दिया। बसपा कार्यकर्ता इसे राजनीतिक सम्मेलन न बताकर पूर्व सीएम मायावती के जन्मदिन की तैयारियों को लेकर बैठक की दलील देते रहे। इस बाबत एसडीएम मोहनलाल गुप्ता का कहना था कि सेक्टर मजिस्ट्रेट व पुलिस की रिपोर्ट के आधार पर शिकायत सही पायी गई। एसआइ धर्मेंद्र सिंह की तहरीर पर रूपापुर कोतवाली नगर निवासी व बसपा के लोकसभा प्रभारी अशोक त्रिपाठी, बसपा के मंडल प्रभारी अजय पासी व कमलेश वर्मा को नामजद करते हुए 65 अज्ञात पर मुकदमा दर्ज किया गया। बसपा नेता और लोकसभा क्षेत्र के प्रभारी अशोक त्रिपाठी, मंडल अध्यक्ष अजय पासी, कमलेश वर्मा और 65 अज्ञात लोगों के खिलाफ लालगंज कोतवाली में मामला दर्ज किया गया। 

Posted By: Dharmendra Pandey

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप