प्रतापगढ़ : आसपुर देवसरा थाना क्षेत्र के गोदलपट्टी गांव में सोमवार सुबह कीटनाशक दवा खाने से एक बच्चे की मौत हो गई, जबकि दो को गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती कराया गया है। दोनों बच्चों का इलाज जौनपुर जिले के कधुंआ बाजार स्थित क्लीनिक में चल रहा है।

आसपुर देवसरा के गोदलपट्टी गांव निवासी समरजीत और मिथुन मुसहर सगे भाई हैं। समरजीत का बेटा खेसारी (4) व सूरज (6) और मिथुन की बेटी निशा (6) सोमवार सुबह करीब आठ बजे खेलते-खेलते पड़ोसी सुरजीत मुसहर के घर चले गए। सुरजीत के घर के बगल गुड़ लगी कीटनाशक गोली पड़ी थी। तीनों बच्चों ने उस कीटनाशक गोली को गुड़ समझकर खा लिया। घर पहुंचने पर थोड़ी देर बाद तीनों बच्चों की हालत बिगड़ गई। आनन-फानन में तीनों बच्चों को जौनपुर जिले के कुधुंवा बाजार में स्थित क्लीनिक पर ले गए। वहां चिकित्सक डॉ इंद्रजीत पांडेय ने खेसारी की हालत गंभीर देख कर उसे कहीं और दिखाने की सलाह दी। परिजन फौरन खेसारी को लेकर सीएचसी अमरगढ़ पहुंचे। वहां चिकित्सकों ने खेसारी को मृत घोषित कर दिया। जबकि सूरज और निशा का कुंधुवा बाजार स्थित क्लीनिक पर इलाज चल रहा था।

चिकित्सक इंद्रजीत पांडेय ने बताया कि पत्नी के साथ मिथुन निशा समेत तीनों बच्चों को इलाज के लिए ले आया था। उसने बताया कि तीनों बच्चों ने कीटनाशक दवा खा लिया। तत्काल सूरज और निशा का इलाज शुरू कर दिया गया। दोनों बच्चों की स्थिति इस समय सामान्य है।

उधर, स्वजन ने बिना पुलिस को सूचना दिए खेसारी के शव बगल में तालाब के पास दफना दिया। मौके पर पहुंचे एसआइ विनोद कुमार ने स्वजन से पूछताछ की। परिजनों ने बुखार से मौत होने की जानकारी दी, जबकि पड़ोसी ने बताया कि बच्चे कीटनाशक दवा खा लिए थे, जिससे एक बच्चे की मौत हो गई और दो बच्चों का इलाज चल रहा है। इस बारे में एसओ विपिन सिंह का कहना है कि तीनों बच्चों के परिजन उन्हें बुखार होने की बात बता रहे हैं।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस