संसू, कुंडा (प्रतापगढ़) : कस्बे के उप डाकघर में शनिवार को सीबीआइ टीम ने छापा मारा तो अफरातफरी मच गई। सीबीआइ की लखनऊ ब्रांच की टीम ने कर्मचारियों को छोड़ अन्य को बाहर कर डाकघर का दरवाजा बंद कर कार्रवाई की। डाक कर्मियों की तलाशी और अभिलेखों को खंगाला। अभिलेखों के साथ ही कंप्यूटर, सीसीटीवी कैमरे की फुटेज व हार्ड डिस्क को टीम ने अपने कब्जे में ले लिया।

टीम ने कैश काउंटर पर जमा किए गए लाखों रुपये की काउंटिग कराई। इस दौरान डाक सहायक सूरज कुमार मिश्रा कैश जमा कर रहे थे, उनके हाथ को एक गिलास पानी में धुलवाया तो पानी का रंग लाल हो गया, उन्हें दबोच लिया। इस दौरान सूरज से पूछताछ के बाद उप डाक पाल कुंडा संतोष कुमार और चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी बृजलाल को हिरासत में ले लिया। इन्हें साथ लेकर उनके घर भी गए। डाक सहायक बाबू सूरज मिश्रा को उनके घर कुंडा कोतवाली क्षेत्र के ओझा का पुरवा ले जाया गया। यहां से टीम बसवाही उप डाक घर गई, जहां सूरज की पत्नी गीता देवी शाखा डाक पाल हैं। उसके नाम से वहां मौजूद अभिलेखों की भी जांच की। डाक पाल संतोष को उसके देवकली स्थित घर ले जाया गया, वहां परिजनों से भी पूछताछ हुई। चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी बृजलाल को उसके बाघराय स्थित घर ले जाकर तलाशी ली गई। सीबीआइ टीम ने देर शाम अभिकर्ताओं को बताया कि आप द्वारा कैश काउंटर पर जमा किया पैसा सीज कर दिया गया है। जांच पूरी होने के बाद पैसे को मुक्त किया जाएगा। सीबीआइ के एसआई संतोष तिवारी ने बताया कि ये लोग घूस लेते हुए पकड़े गए हैं। इस बारे में वह इससे ज्यादा जानकारी नहीं दे सकते। वहीं प्रधान डाकघर के प्रवर डाक अधीक्षक के.एस. बाजपेयी का कहना था कि सीबीआइ टीम मामले की जांच अभी कर रही है। कुछ भी बता पाना जल्दबाजी होगा।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस