प्रतापगढ़ । राष्ट्रीय मानसिक स्वास्थ्य कार्यक्रम के अंतर्गत इन दिनों डिमेंशिया जागरूकता सप्ताह मनाया जा रहा है। इस कड़ी में मंगलवार को विश्व अल्जाइमर्स सीएमओ कार्यालय के शास्त्री सभागार में गोष्ठी के रूप में आयोजन किया। इसमें मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ अरविद कुमार श्रीवास्तव ने अध्यक्षता करते हुए दिवस विशेष के बारे में विस्तार से जानकारी दी। मेडिकल कालेज के मनोरोग विशेषज्ञ डा. एम पी शर्मा नेबताया कि अल्•ाइमर रोग ज्यादातर 55 वर्ष से ज्यादा उम्र वाले व्यक्तियों में होता है। इसमें याददाश्त लगातार कम होने लगती है। थोडी देर पहले हुई घटना भूल जाते हैं। मरीज किसी व्यक्ति एवं स्थानों का नाम भूल जाता है। ऐसे बुजुर्ग मरीजों की देखभाल बड़ी सजगता से करनी चाहिए। लक्षण होने पर मानसिक स्वास्थ्य इकाई, प्रतापगढ़ व मानसिक स्वास्थ्य हेल्पलाइन 9984969605 पर मदद ले सकते हैं। कार्यक्रम में सीएमएस डा. सुरेश सिंह, स्वशासी राज्य चिकित्सा महाविद्यालय के चिकित्साधिकारी, सीनियर रेजिडेंट, जूनियर रेजिडेंट, मानसिक स्वास्थ्य कार्यक्रम से मुकेश कुमार मौर्य मनोरोग सामजिक कार्यकर्ता एवं बृजेंद्र सिंह मनोरोग उपचारक भी मौजूद रहे। मिशन प्रेरणा से बढ़ाएं शैक्षिक गुणवत्ता : विकासखंड गौरा के कौलापुरनंद पट्टी के कंपोजिट विद्यालय अधारगंज में मंगलवार को शिक्षकों की बैठक हुई। बैठक में डायट के उपशिक्षा निदेशक मुहम्मद इब्राहिम ने कहा कि मिशन प्रेरणा के लक्ष्य को हासिल कर शैक्षिक गुणवत्ता को बढ़ाएं। उन्होंने कोविड प्रोटोकोल, मिशन प्रेरणा से संबंधित सभी प्रशिक्षण, क्विज, दीक्षा एप, काया कल्प आदि विदुओं पर चर्चा की। सभी शिक्षक संकुलों को उप शिक्षा निदेशक ने मिशन प्रेरणा के लिए प्रेरित किया। खंड शिक्षा अधिकारी विमलेश कुमार त्रिपाठी ने कहा कि बच्चों के स्तर के अनुसार प्रेरणा लक्ष्य की प्राप्ति कराएं, जिससे बच्चे ड्राप आउट न हो सकें। एआरपी जय प्रकाश पांडेय ने कार्यक्रम का संचालन करते हुए गौरा ब्लॉक की उपलब्धियों पर चर्चा की। एआरपी डॉ. ललित कुमार मिश्र,चंद्रजीत, आशुतोष शुक्ल, कुलदीप श्रीवास्तव, दिनेश, सत्य प्रकाश पांडेय, आदि रहे। कार्यक्रम का संयोजन जगत पाल गुप्ता ने किया।

Edited By: Jagran