घुइसरनाथधाम : सावन माह भगवान भोलेनाथ का सबसे प्रिय माह माना जाता है। यह माह आज रविवार से शुरू हो रहा है। इसे लेकर शनिवार को शिव मंदिरों में तैयारियां जोरों पर रहीं हैं। पौराणिक शिव स्थली घुइसरनाथधाम में जलाभिषेक को लेकर प्रतिदिन हजारों की संख्या में श्रद्धालु पहुंचते हैं। इसे लेकर पुलिस प्रशासन द्वारा सुचारू व्यवस्था बनाने के लिए मंदिर परिसर, सई तट पर पुलिस फोर्स की व्यवस्था बनाई गई है। जगह जगह वैरिकेडिग कराई जा रही है। सई तट पर वैरिकेडिग व नाव की व्यवस्था भी की जा रही है। मंदिर प्रशासन द्वारा मंदिर की सफाई करवाई गई। मंदिर परिसर को सैनिटाइज किया गया और कोविड के तहत शारीरिक दूरी बनाए रखने के लिए गोले बनाए गए है। महंथ मयंक भाल गिरि ने बताया कि श्रद्धालु मास्क व फिजिकल दूरी के साथ जलाभिषेक करें।

----

धाम परिसर की कराई गई सफाई

फोटो : 24 पीआरटी- 37

संसू, दीवानगंज : क्षेत्र के पौराणिक स्थल बाबाबेलखर नाथ धाम पर सावन माह पर श्रद्धालुओं के जलाभिषेक करने की तैयारी रविवार शाम तक पूरी हो गई। इस दौरान यहां कोरोना महामारी को देखते हुए भीड़ को रोकने के लिए भंडारा सहित अन्य कार्यक्रम सावन माह में स्थगित रहेगा। प्रभारी एडीओ पंचायत प्यारे लाल सरोज के नेतृत्व में सफाई कर्मियों की टोली ने धाम प्रांगण के साथ आने जाने वाले रास्तों की साफ सफाई की। इसके साथ ही एसडीएम पट्टी डीपी सिंह ने शुक्रवार देर शाम धाम पर पहुंचकर स्थानीय सेवा समिति के रमानाथ सिंह, मदन सिंह, नारेंद्र प्रसाद ओझा से विद्युत व्यवस्था पेयजल सहित अन्य व्यवस्थाओं का जायजा लिया।

---

पूरे दिन हुई सफाई, सुरक्षा के कड़े इंतजाम

फोटो-24 पीआरटी 43

संसू, गोतनी : तहसील क्षेत्र कुंडा स्थित हौदेशवर नाथ धाम में सावन के मद्देनजर सफाई का कार्य पूरा हो गया है। भगवान भोलेनाथ के प्रिय सावन मास का भक्तों को हर साल इंतजार रहता है। सप्ताह भर पहले से ही जहां भक्तों ने जलाभिषेक की तैयारी शुरू कर दी है। वहीं हौदेशवर नाथ धाम के कर्मचारियों ने शिवमंदिर को सजाने व साफ सफाई का कार्य शुरू कर दिया है। मंदिर के पुजारी धुन्ना गोसाई ने बताया कि सावन में आने वाले श्रद्धालुओं की भारी भीड़ को देखते हुए साफ सफाई, नौका बचाव दल, महिलाओं के वस्त्र बदलने का स्थान, बिजली, स्टैंड सहित सभी व्यवस्थाएं पूरी कर ली गई हैं। कोरोना को देखते हुए भीड़ इकट्ठा नहीं होने दिया जाएगा। सुरक्षा को लेकर कड़े इंतजाम रहेंगे।

बाघराय प्रतिनिधि के अनुसार क्षेत्र के रामेश्वर नाथ धाम फूलपुर रामा, लक्ष्मणेश्वर नाथ धाम शकरदहा, दंडेश्वरनाथ धाम मुजेढी, शिव मंदिर शिवभीख में जलाभिषेक को लेकर सभी तैयारियां पूरी कर ली गई है।

---

गुरुकुल से ही हो सकेगा संरक्षित

संसू, लालगंज : गुरू पूर्णिमा पर शनिवार को इनहन भवानी स्थित इन्द्राणी शंकर संस्कृत महाविद्यालय में गोष्ठी का आयोजन किया गया। संस्कृत शिक्षक समिति के पूर्व जिलाध्यक्ष आचार्य राजेश मिश्र ने कहा कि विद्वता की पूजा तथा गुरूकुल से ही भारतीय संस्कृति को संरक्षित रखा जा सकता है। अध्यक्षता प्रधानाचार्य राजेश शुक्ल एवं संचालन आचार्य सुशील शुक्ल ने किया। इस मौके पर आचार्य त्रिवेणीधर शुक्ल, मोती लाल पटेल, सरोज मिश्रा, अश्विनी पांडेय आदि मौजूद रहे।

Edited By: Jagran