कुंडा, प्रतापगढ़ : विकास क्षेत्र बाबागंज के हीरागंज बाजार स्थित बाबा ताजुद्दीन औलिया ताज वाले बाबा का सालाना उर्स रविवार को बड़ी धूमधाम से मनाया गया। बाबा का संदल, बाबा के खिदमदगार बाबा जियालाल पाल के घर से देर शाम हजारों लोगों के बीच बैंड बाजे व घोड़ों की सवारी के साथ निकला और तीन घंटे बाद बाबा की दरगाह पर पहुंचा। लोगों ने जवाबी कौव्वाली का रात भर आनंद लिया।

बता दें कि हीरागंज बाजार के जेठवारा मार्ग पर नागपुर वाले ताजवाले बाबा की प्रतीकात्मक मजार दो दशक पूर्व फतूहाबाद के बाबा जियालाल पाल ने स्थापित की थी । धीरे-धीरे लोगों की आस्था बाबा के प्रति बढ़ती गई। कहते हैं कि बाबा के दरबार में आने वाले फरियादी कभी खाली नही गए। प्रत्येक गुरूवार को यहां पर भक्तों की भारी भीड़ जमा होती है। दूर-दूर से लोग अपनी-अपनी फरियादें लेकर बाबा के दरबार में आते हैं। यहां पर प्रत्येक वर्ष 30 मार्च को उर्स मुबारक मनाया जाता है। रविवार को बाबा जियालाल पाल के घर फतूहाबाद से घोड़ा, बैंड बाजा की अगुवाई में बाबा का संदल हजारों लोगों के बीच निकला तो उसे हीरागंज पहुंचने में करीब तीन घंटे का समय लग गया। बाबा का संदल फतूहाबाद, खैलर का पुरवा, हीरागंज चौराहा कुंडा मार्ग, बाबागंज मार्गो से गुजरा। जहां पर चादर पोशी के बाद आयोजित लंगर में हजारों लोगों ने प्रसाद ग्रहण किया। देर रात चांद वारसी कानपुर, एवं रानी चांदनी कानपुर के बीच कौव्वाली का मुकाबला हुआ। जिसमें इमान को ताजा करने वाले कलाम पढ़े गए। इस दौरान थोड़ी देर के लिए कुंडा जेठवारा मार्ग बंद कर दिया गया था। इस मौके पर लक्ष्मीपाल, शिवम केशरवानी, काशीराम राणा, पप्पू यादव, विनोद कुमार यादव, नोंखेलाल केशरवानी, गिरधारी लाल केशरवानी, मुकेश कुमार, मो. आजाद, इकरार मास्टर, डा. सिद्दीकी व मुन्ना सिंह समेत हजारों की संख्या में श्रद्धालु मौजूद रहे।