पीलीभीत,जेएनएन : शराब बनाते पकड़े गए आरोपित के शोर शराबा करने पर आसपास के लोग जुट गए। उन्होंने पुलिस पर हमला कर आरोपित को छुड़ा लिया। हमला और मारपीट के दौरान चार सिपाही भी घायल हो गए। ग्रामीणों का आक्रोश देख पुलिस मोटरसाइकिल छोड़कर भाग निकली। बाद में बड़ी संख्या में कोतवाली से फोर्स गांव पहुंच गया। इसी दौरान झोपड़ी में भी आग लग गई। अफरा तफरी मची रही। पुलिस ने आठ लोगों को नामजद करते हुए अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर धरपकड़ शुरू कर दी है।

बुधवार की देर रात गश्त के दौरान कोतवाली पुलिस के अनुसार पुलिस को सूचना मिली कि सुआबोझ निवासी महेश उर्फ दारा, पोथीराम और संतोष कुमार गांव में झोपड़ी के नीचे अवैध शराब की कसीदगी कर रहे हैं। दारोगा संजीव कुमार, सिपाही नागेंद्र कुमार, अरूण कुमार, महेंद्र कुमार और रामविनय मौके पर पहुंच गए। इस दौरान तीनों शराब बनाने में व्यस्त थे। पुलिस ने मौके पर महेश उर्फ दारा को धर दबोचा। रात के अंधेरे का फायदा उठाकर महेश का पिता पोथीराम और भाई संतोष मौके से भाग गए। पुलिस ने झोपड़ी से अवैध शराब और लहन भी बरामद कर लिया। कोतवाली लाते समय महेश ने शोर शराबा शुरू कर दिया। इस पर पड़ोस के मिथुन, सुनील, कालीचरन, धर्मपाल, जैकी अपने कुछ अज्ञात साथियों के साथ आ गए और उन्होंने पुलिस से धक्का मुक्की, मारपीट शुरू कर दी। ग्रामीण पुलिस कार्रवाई का विरोध करने लगे। इस दौरान आरोपित महेश उर्फ दारा मौके से भाग गया। ग्रामीणों ने पुलिस को गांव से दौड़ा दिया। नजाकत देख पुलिस कर्मचारी अपनी बाइकें छोड़कर वहां से खिसक गए। दारोगा ने हमले की सूचना इंस्पेक्टर एसके सिंह को दी। इसके बाद वह बड़ी संख्या में पुलिस फोर्स को लेकर गांव पहुंचे। इसी बीच एक झोपड़ी में आग लग गई। कड़ी मशक्कत के बाद आग पर बुझाया जा सका। पुलिस ने ग्रामीणों द्वारा दबाव बनाने के लिए झोपड़ी में आग लगाने की बात कही है, इसके बाद बाइकों को वहां से लाया जा सका। हमले में चारों सिपाही घायल हो गए। घायल सिपाहियों का सरकारी अस्पताल में उपचार कराया गया। कोतवाल एसके सिंह ने बताया कि पुलिस पर हमला और सरकारी कार्य में बाधा डालने की धाराओं में मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। आरोपितों की तलाश की जा रही है। जल्द ही उन्हें पकड़ा जाएगा।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस