मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

पीलीभीत : हजरत सूफी अलहाज मोहम्मद उस्मान मियां किबला कदीरी का सातवां सालाना उर्स ए फनाफिल मुर्शिद मंगलवार से शुरू हो रहा है। प्रेस कांफ्रेस में मुफ्ती मोहम्मद हसन मियां कदीरी ने उर्स की तैयारियों की जानकारी दी। सोमवार को पत्रकारों से वार्ता करते हुए खानकाह -ए- उस्मानिया के सज्जादानशीन हजरत हसन मियां कदीरी ने हजरत सूफी अल्हाज मोहम्मद उस्मान मियां कदीरी की जिदगी और उनके पीर ओ मुर्शीद हजरत अल्लामा मौलाना अश्शाह सैयद अब्दुल कदीरी मियां से उनके प्रेम के बारे में उल्लेख किया। उन्होंने बताया कि चुनाव के कारण प्रशासन की व्यस्तता को देखते हुए चादरों का जुलूस नहीं निकालने का फैसला लिया है। नौ अप्रैल को होने वाली इमामे आलम कांफ्रेंस में शहंशाहे तरन्नुम हस्सानुल हिन्द हजरत ख्वाजा मिस्बाहुल मुराद साहब सज्जादानशीन खानकाह ए आलिया मदारिया मकनपुर शरीफ, हजरत अल्लामा डा. हफीजुर्रहमान जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय दिल्ली एवं सूफी पीस फाउंडेशन ऑफ इंडिया शिरकत कर रहे हैं। मंगलवार को बाद नमाजे फज्र कुरान ख्वानी, बाद नमाज ए अस्त्र कुल शरीफ ताजुल औलिया हजरत अल्लामा अश्शाह सैयद अब्दुल कदीरी मियां व हुजूर किबला ए आलम सैयद अब्दुल रशीद मियां बाद नमाजे मगरिब लंगर ए आम व बाद नमाज ए ईशा इमामे आजम कांफ्रेस होगी। जिसमें हिन्दुस्तान के ख्याति प्राप्त शोयरा इकराम व अल्लामा हजरात तशरीफ ला रहे है। दस अप्रैल को नमाज फज्र कुरान ख्वानी सुबह 10.40 बजे विसाली कुल शरीफ होगा।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप