संस, पूरनपुर ( पीलीभीत) : टाइगर रिजर्व के एक और बाघ की मौत हो गई। शव हरदोई ब्रांच नहर में शनिवार सुबह उतराता मिला। दो घंटे की मशक्कत के बाद शव को पानी से बाहर निकाला जा सका। शव कई दिन पुराना लग रहा है। पोस्टमार्टम के लिए बरेली स्थित आइवीआरआइ भिजवाया गया है।

शनिवार को सुबह घुंघचाई गांव से दियोरिया जाने वाले मार्ग पर टूटा पुल से करीब आधा किमी दूर नहर में बाघ का शव देखा गया। मटेहना गांव के कुछ बच्चे पशुओं को चराने के लिए उधर निकले तो सबसे पहले उन्होंने ही बाघ का शव पानी में उतराता देखा। वन दारोगा दिनेश गिरि मौके पर पहुंचे। उन्होंने उच्चाधिकारियों को सूचना दी। बाघ के शव को रस्सा में फंसाकर पानी से बाहर निकालने के प्रयास शुरू हुए। नहर में पानी अधिक होने के कारण शव रस्सा में फंसने के बजाय बीच धार में चला गया। इसके बाद शव पानी में बहते हुए तीन किमी आगे शाहजहांपुर जिले के बंडा थाना अंतर्गत नवीनगर नहर पुल के पास जा पहुंचा। इस दौरान शाहजहांपुर जिले की सामाजिक वानिकी विभाग की टीम भी पहुंच गई। बाघ का शव पड़ोसी जिला शाहजहांपुर के क्षेत्र में नहर से निकलवाया गया है। वहीं के विभागीय अधिकारी शव को पोस्टमार्टम के लिए बरेली स्थित आइवीआरआइ भिजवा रहे हैं। शव बाघ का है या बाघिन का यह अभी स्पष्ट नहीं है। उसकी मौत कैसे हुई, यह पोस्टमार्टम से ही स्पष्ट हो सकेगा।

- नवीन खंडेलवाल, प्रभागीय वनाधिकारी पीलीभीत टाइगर रिजर्व

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप