संवाद सूत्र, शेरपुरकलां (पीलीभीत) : टाइगर रिजर्व की हरीपुर रेंज के कंम्पार्ट नंबर 93 में एक वर्ष पूर्व वन्यजीवों की प्यास बुझाने के लिए तालाब खुदवाया गया था। तालाब में पानी भरने के लिए सोलर पैनल और वाटर पंप लगाया गया था। अब न तो तालाब में पानी है और न ही सोलर पम्प है। वन्यजीवों को पानी नहीं मिल पा रहा है और वह आबादी की तरफ भटककर पहुंच रहे हैं।

टाइगर रिजर्व प्रशासन वन्यजीवों की सुरक्षा को लेकर सजग नहीं देख रहा है। जंगली वन्यजीवों को अपनी प्यास बुझाने के लिए जंगल से बाहर जाना पड़ रहा है। वन्यजीवों की प्यास बुझाने के लिए टाइगर रिजर्व प्रशासन ने विशेष इंतजाम किया था जिससे जीवों को जंगल के अंदर ही पर्याप्त पानी उपलब्ध हो सके। हरीपुर रेंज की बीट नंबर 93 में तालाब बनवाया गया। पानी भरने के लिए गहरा भी किया गया। बरसात खत्म होने के बाद जंगल की नदियों और झीलों का पानी कम हो जाता है। छोटे तालाब भी सूख जाते हैं। इससे वन्यजीवों को पानी के किल्लत होती है। प्यास लगने पर जब जंगल के अंदर पानी नहीं मिलता तब वह तलाश में बाहर भटकने को विवश हो जाते हैं। जंगल क्षेत्र से बाहर आबादी में पहुंचकर आम जनमानस को भी नुकसान पहुंचाते हैं। साथ ही उनकी जान को खतरा बन जाता है। जंगल के अंदर पानी की उपलब्धता बनाए रखने के लिए हरीपुर रेंज के कंपार्ट नंबर 93 में तालाब बनाया गया था। तालाब को भरने के लिए सोलर पैनल और पंप लगाया गया था जो अब कई माह से गायब है। इसके चलते वन्यजीवों को प्यासा ही रहना पड़ रहा है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस