संवाद सूत्र, अमरिया (पीलीभीत) : मेला श्री रामलीला के दूसरे दिन कलाकारों ने श्री रामजन्म प्रकटोत्सव लीला का मंचन किया। पुत्र नहीं होने से राजा दशरथ परेशान हो उठते हैं। वह विचार करते हैं कि उनकी इतनी उम्र गुजर जाने के बाद भी कोई पुत्र नहीं है, इसलिए अब गुरु वशिष्ठ के आश्रम पर जाकर आग्रह करेंगे। उनसे प्रार्थना करेंगे कि हे गुरु मेरा जीवन इतना व्यतीत हो गया अभी तक गद्दी पर बैठने के लिए कोई उत्तराधिकारी नहीं है। क्या गुरुदेव सूर्यवंश का सूरज हमेशा के लिए अस्त हो जाएगा। गुरु वशिष्ठ ने कहा कि संतान पाने की तुम्हें इच्छा है तो इसके लिए तुम्हें पुत्रेष्ठ यज्ञ कराना पड़ेगा। हमारा आशीर्वाद है तुम्हें चार पुत्र प्राप्त होंगे। यज्ञ पूर्ण करने के लिए तुम्हें महाऋषि श्रंगी को बुलाकर यज्ञ करना पड़ेगा। लीला कलाकारों में शंभूदयाल, रोहन लाल वर्मा, मेवाराम मौर्य, राजकुमार, श्रीपाल आदि शामिल रहे।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप