जागरण संवाददाता, पीलीभीत : बेसिक शिक्षा विभाग में संचालित हो रहे निष्ठा प्रशिक्षण में वित्तीय अनियमितता कर संसाधनों की पूर्ति में लापरवाही का मामला दैनिक जागरण लगातार प्रकाशित कर रहा है। खबरों का संज्ञान लेते हुए जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी देवेंद्र स्वरूप ने सभी खंड शिक्षा अधिकारियों से इस बाबत रिपोर्ट तलब की है। इसके साथ ही बीएसए ने सभी खंड शिक्षा अधिकारियों को पत्र जारी करते हुए निष्ठा प्रशिक्षण के लिए आवंटित बजट से बीआरसी पर फर्नीचर क्रय करने के आदेश दिए हैं। बीएसए ने पत्र में स्पष्ट किया है कि आगामी बैचों में किसी भी बीआरसी पर ज़मीन में बैठकर प्रशिक्षण होता पाया गया तो संबंधित के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

बता दें कि राज्य परियोजना निदेशक विजय किरन आनंद ने स्पष्ट आदेश दिए थे कि किसी भी संसाधन केंद्र पर शिक्षकों को ज़मीन पर बैठाकर प्रशिक्षण नहीं दिया जाएगा। जनपद में निष्ठा प्रशिक्षण के चार बैच संपन्न हो चुके हैं और पाचवा बैच 22 फ़रवरी से शुरू होना है। अभी तक सभी संसाधन केंद्रों पर ज़मीन पर बैठाकर ही प्रशिक्षण दिया जा रहा है जबकि बजट में 50 हज़ार रुपये फर्नीचर के लिए प्रत्येक बीआरसी को दिया गया है। वजऱ्न--

फोटो: 18 पीआइएलपी 53

निष्ठा प्रशिक्षण में प्रत्येक संसाधन केंद्र को बड़ा बजट दिया गया है। बजट के साथ ही संसाधनों की पूर्ति के भी स्पष्ट आदेश राज्य परियोजना निदेशक द्वारा दिए गए हैं। सभी खंड शिक्षा अधिकारियों को स्पष्ट रूप से आदेशित किया गया है कि फर्नीचर क्त्रय कर कक्षों में व्यवस्थित किया जाए। प्रशिक्षण ज़मीन पर बैठाकर नहीं कराया जाएगा। कोई लापरवाही की जाती है तो कार्यवाही की जाएगी।

- देवेंद्र स्वरूप, जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी इनसेट--

सुबह ही भेजना होगा फोटो

जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी ने जिला समन्वयक प्रशिक्षण मनीष श्रीवास्तव को निर्देश दिया कि आगामी बैच का प्रशिक्षण शुरू होते ही सुबह सभी संसाधन केंद्रों से प्रशिक्षण कक्ष के फोटो मंगाए जाएं। प्रशिक्षण कक्ष में शिक्षकों के लिए की गई आसान व्यवस्था को देखा जाए। इसके साथ ही शासनादेश के अनुसार सभी संसाधनों का भौतिक सत्यापन किया जाए। यदि किसी संसाधन केंद्र पर कमी पाई जाती है तो कार्रवाई की जाएगी।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

जागरण अब टेलीग्राम पर उपलब्ध

Jagran.com को अब टेलीग्राम पर फॉलो करें और देश-दुनिया की घटनाएं real time में जानें।