पीलीभीत : भाजपा के राष्ट्रीय नेता, सांसद वरुण गांधी ने जिले में धान की सरकारी खरीद व्यवस्था को पारदर्शी बनाने का जिलाधिकारी से आग्रह किया है। डीएम को पत्र भेजकर कहा कि विगत वर्षों में कई गांवों में क्रय केंद्र खुले ही नहीं परंतु उन पर हजारों क्विटल की फर्जी खरीद दर्शा दी गई।

सांसद ने जिलाधिकारी को भेजे पत्र में कहा कि जिला खाद्य विपणन अधिकारी सभी जनप्रतिनिधियों से क्रय केंद्र खोलने के लिए सूची तो मांगते हैं लेकिन उनके द्वारा सुझाए गांवों में केंद्र फिर भी नहीं खोले जाते। गांवों में एक तो केंद्र देरी से खोले जाते हैं, दूसरे वे ऐसे स्थानों पर होते हैं कि किसानों को पता ही नहीं चल पाता है। राइस मिलों से धान लेकर केंद्रों की खरीद दर्शा दी जाती है। पचास किमी दूर के किसानों के नाम पर यह फर्जी खरीद होती रही है। सांसद ने डीएम से आग्रह किया है कि वह ऐसे मामलों का संज्ञान लेकर जांच कराएं। साथ ही इस बार धान खरीद की व्यवस्था को पूरी तरह पारदर्शी बनाएं। इसके अलावा सांसद ने दूसरे पत्र में विभिन्न स्कूलों के संचालकों द्वारा कोविड-19 काल में अभिभावकों से बेसिक फीस के बजाय मनमानी फीस वसूलने के लिए दबाव बनाने की बात कही है। उन्होंने अपेक्षा की कि जिलाधिकारी स्कूलों के संचालकों के साथ बैठक कर गरीब अभिभावकों की समस्याओं का समाधान कराएं।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस