पीलीभीत,जेएनएन: यूरोप के कई देशों में कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर को देखते हुए स्वास्थ्य विभाग सतर्क हो गया है। विश्व स्वास्थ्य संगठन पहले ही नवंबर-दिसंबर में संक्रमण की दूसरी लहर के बाबत चेतावनी जारी कर चुका है। ऐसे में दूसरी लहर आने से रोकने के प्रयास तेज कर दिए गए हैं। स्वास्थ्य विभाग के प्रमुख सचिव डॉ. अमित मोहन प्रसाद ने अधिकारियों को व्यवस्थाएं दुरुस्त रखने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि विश्व स्वास्थ्य संगठन ने उन राज्यों को आगाह किया है जहां कोरोना संक्रमण के मामले आने कम हो गए हैं। संगठन के अनुसार वहां संक्रमण की दूसरी लहर आ सकती है। इस लहर के पहले से ज्यादा तेज होने की आशंका है।

अपर मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ. चंद्रमोहन चतुर्वेदी ने आयुर्वेदिक कॉलेज स्थित एल वन कोविड हॉस्पिटल का निरीक्षण कर कमियों का आंकलन किया। मरीजों की कम संख्या होने के कारण एल वन कोविड हॉस्पिटल अस्थाई रूप से बंद चल रहा है। एल वन कोविड हॉस्पिटल के संचालन के दौरान तमाम खामियां आ गईं थीं जिसे दुरुस्त कराया जाएगा। इसके लिए निरीक्षण कर सभी व्यवस्थाओं को देखा गया। निरीक्षण के दौरान हैंडपंप, शौचालय, बाथरूम, वार्ड आदि में कई कमियां पाईं गईं जिनकी सूची तैयार कर ली गई है।

एसीएमओ ने बताया कि निरीक्षण के दौरान जो भी कमियां सामने आईं, उनको नोट कर लिया गया है। जल्द से जल्द सभी व्यवस्थाएं दुरुस्त कराकर एल वन कोविड हॉस्पिटल को आपात स्थिति के लिए पूरी तरह तैयार रखा जाएगा।

सैंपलिग में कमी न करने के निर्देश

सीएमओ डॉ. सीमा अग्रवाल में सभी एमओआईसी को सैंपलिग में कोई लापरवाही न बरतने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने विश्व स्वास्थ्य संगठन की चेतावनी व अन्य स्थानों पर सामने आ रहे केसों के मद्देनजर पूर्व की भांति कार्य करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि भले ही जनपद में संक्रमित मरीजों की संख्या कम हो लेकिन इससे ट्रेसिग, टेस्टिग, सर्विलांस व रिपोर्टिंग कार्य में किसी प्रकार की ढिलाई नहीं आनी चाहिए। सभी सैंपलिग टीमों को प्रतिदिन का निर्धारित लक्ष्य पूरा करने व लक्ष्य आधारित सैंपलिग करने के आदेश दिए हैं।

इनसेट-

वैक्सीन के लिए मांगी संख्या

मुख्य चिकित्साधिकारी कार्यालय में सभी स्वास्थ्य कर्मियों का डाटा मांगा गया है। कोरोना वैक्सीन के लिए फ्रंटलाइन वर्कर्स की संख्या शासन को भेजी जानी है जिसके लिए जिला संयुक्त अस्पताल, सीएचसी-पीएचसी, होम्योपैथी, आयुर्वेदिक आदि में तैनात कर्मियों का डाटा तैयार किया जा रहा है। एसीएमओ डॉ. सीएम चतुर्वेदी ने बताया कि स्वास्थ्य कर्मियों व फ्रंटलाइन वर्कर्स का डाटा मांगा गया है। सभी का डाटा एकत्र करके वैक्सीन हेतु संख्या शासन को भेजी जाएगी। वैक्सीन की उपलब्धता को लेकर कोई दिशानिर्देश नहीं दिए गए हैं लेकिन कोल्ड चेन तैयार रखने, लोगों तक वैक्सीन पहुंचाने के लिए सभी साधन व कार्ययोजना तैयार रखने के निर्देश प्राप्त हुए हैं।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस