पीलीभीत : राइस मिल की नीलामी के नाम पर एक बैक मैनेजर ने पचास लाख चालीस हजार रुपये की रकम हड़प कर ली, काफी समय बाद भी राइस मिल हैंडओवर न होने पर पीड़ित ने बैक मैनेजर से बात की तो वह टाल मटोल करने लगा। जिस पर पीड़ित ने पुलिस को तहरीर दी है। तहरीर के आधार पर पुलिस ने बैक मैनजर सहित छह लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है।

कोतवाली थाना क्षेत्र के गांव चंदोई निवासी आरिफ ने पुलिस को दी तहरीर में आरोप लगाया है कि जहानाबाद थाना क्षेत्र के गांव निसरा बरातबोझ में नाजिम रास मिल पर बैंक का रूपया बकाया होने पर शहर की स्टेशन रोड पर स्थित बैंक आफ बड़ौदा के तत्कालीन मैनेजर ने राइस मिल की नीलामी के लिए समाचार पत्र में एक विज्ञापन प्रकाशित किया था। जिस पर पीड़ित ने बैंक के मैनेजर से संपर्क कर राइस मिल की नीलामी के लिए एक मार्च 2013 को नाजिम की राइस मिल की सम्पत्ति के लिए समस्त औपचारिकताएं पूर्ण करके अड़तालीस लाख रूपये क्रय के लिए दस प्रतिशत मार्जन मनी के साथ अपने कागज जमा किए। बैक मैनेजर ने सात मार्च 2013 को बारह लाख रुपये लिए, इसके बाद पांच जून 2013 को अड़तीस लाख रुपये बाइस जून को चालीस हजार रुपये संबंधित ऋण खाते में डिपोजिट कराये गए। पीड़ित ने सुनगढ़ी पुलिस को बैंक प्रबंधक उत्तमचंद्र और तेजवीर ¨सह, जनरल मैनेजर एलएन अस्थाना, एसके अरोरा और क्षेत्रीय प्रबंधक जेके माथुर और आरसी यादव के खिलाफ तहरीर दी है। इंस्पेक्टर सुनगढ़ी मोहम्मद कासिम ने बताया कि पीड़ित की तहरीर पर बैंक ऑफ बड़ौदा के जनरल मैनेजर समेत छह अफसरों के खिलाफ धोखाधड़ी समेत संगीन धाराओं में रिपोर्ट दर्ज की गई है। आरोपों के बारे में जाने के लिए बैंक प्रबंधक से बात की जाएगी। मामले की जांच की जा रही है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस