अमरिया (पीलीभीत) : खेतों में गेहूं की पकी खड़ी फसल में आग गई गई। आनन-फानन तमाम किसान वहां जा पहुंचे और आग बुझाने का प्रयास करने लगे। किसानों का कहना है कि दमकल के लिए थाने पर सूचना दी गई लेकिन मौके पर कोई नहीं पहुंचा। किसानों ने ही अपने प्रयासों से आग पर काबू पाया लेकिन तब तक तीस बीघा फसल पूरी तरह जलकर राख हो गई।

क्षेत्र के गांव नूरपुर में सुबह करीब दस बजे बतलून बेगम के खेत में आग लग गई। पकी खड़ी फसल धू-धूकर जलने लगी। दूसरे खेतों में काम कर रहे किसानों ने जब निकट के गेहूं के खेत से आग की लपटें उठती देखीं तो शोर मचाते हुए वे गांव की ओर दौड़ पड़े। अन्य किसानों को जब इसका पता चला तो तमाम लोग खेत की ओर दौड़ पड़े। किसानों ने अपने साधनों से ही आग बुझाने के प्रयास करने शुरू कर दिए। हवा चलने की वजह से पकी खड़ी गेहूं की फसल को आग ली लपटें तेजी से निगल रही थी। इस पर फोन करके थाने में सूचना देकर दमकल को भेजने का अनुरोध किया गया लेकिन दमकल मौके पर नहीं पहुंच सकी। इस कारण किसान ही आग बुझाने में जुटे रहे और अंतत: आग पर काबू पा लिया लेकिन तब तक बतलून बेगम का 16 बीघा, इरशाद, जुल्फिकार व शमशाद का चार-चार बीघा गेहूं जलकर राख हो चुका था। अन्य खेतों में आग के पहुंचने से रोकने में जैसे तैसे कड़ी मशक्कत के बाद किसान कामयाब हो सके।

Posted By: Jagran