पीलीभीत,जेएनएन : उत्तर प्रदेश का 72वां स्थापना दिवस कोविड प्रोटोकाल के साथ धूमधाम से मनाया गया। इस अवसर पर स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों से संबंधित प्रदर्शनी लगाई गई।

सोमवार को गांधी प्रेक्षागृह में हुए समारोह में विभिन्न विद्यालयों के छात्राओं ने सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किए। कार्यक्रम का शुभारंभ दीप प्रज्जवलित कर जिलाधिकारी पुलकित खरे ने किया। इस दौरान सूचना विभाग द्वारा स्वतंत्रता सेनानियों से संबंधित लगाई गई प्रदर्शनी का जिलाधिकारी ने अवलोकन किया। कार्यक्रम के दौरान स्कूली छात्र-छात्राओं को प्रदर्शनी को देखने के लिए प्रेरित किया गया। जिलाधिकारी ने उप्र स्थापना दिवस की शुभकामनाएं देते हुए कहा कि हमारा प्रदेश देश का जनसंख्या में सबसे बड़ा प्रदेश होने के साथ-साथ विविधताएं देखने को मिलती है। उन्होंने कहा प्रदेश के जनपदों की अपनी अलग अलग विशेषताएं हैं। प्रदेश में विभिन्न प्रकार सांस्कृति, वेशभूषा, खानपान व औद्योगिक विभिन्नता पाई जाती है। उन्होंने कहा कि पश्चिमी, पूर्वांचल, बुंदलेखंड, अवध, तराई क्षेत्र सभी जगह अलग-अलग संस्कृति एवं रीति रिवाज पाए जाते हैं। उन्होंने कहा कि प्रत्येक जनपद की औद्योगिक क्षेत्र में अलग पहचान है। अलीगढ़ के ताले, भदोही की कालीन, मुरादाबाद की पीतल सामग्री देश में ही नहीं अपितु विश्व में भी अपनी अलग पहचान बनाए हुए है। उन्होंने कहा कि हम जिस प्रदेश में जन्मे है, उस पर हमें गर्व होना चाहिए। उत्तर प्रदेश कला, खेल, सांस्कृतिक सहित विभिन्न प्रतिभाओं को जन्म दिया जो विश्व में अपनी छाप छोडे हुए हैं। कार्यक्रम में ज्वाइंट मजिस्ट्रेट नूपुर गोयल, मुख्य विकास अधिकारी प्रशांत कुमार श्रीवास्तव, मुख्य कोषाधिकारी रेनू बौद्ध, जिला विकास अधिकारी हवलदार सिंह, जिला विद्यालय निरीक्षक ओम प्रकाश, जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी आदि शामिल रहे।

Edited By: Jagran