पीलीभीत,जेएनएन : शारदीय नवरात्र के अंतिम दिन भक्तों ने देवी के नवम स्वरूप मां सिद्धदात्री का पूजन किया। इसके उपरांत नौ कन्याओं को अपने घरों पर आमंत्रित करके उनका पूजन किया। कन्याओं भोज कराने के बाद दक्षिणा देकर विदा किया। इसके उपरांत अपने व्रत का पारायण किया। देवी मंदिरों में भी दर्शन पूजन के लिए भक्तों की कतारें लगी रहीं।

गुरुवार को नवरात्र की नौवीं पर गोदावरी एस्टेट कालोनी के मां दुर्गा मंदिर तथा निरंजन कुंज कालोनी के महा मातेश्वरी मंदिर में विधि विधान से हवन किया गया। मंत्रोच्चारण के बीच भक्तों ने आहुति दी। इसके उपरांत कन्याओं का पूजन कर उन्हें भोज कराया गया। इस अवसर पर हुए भंडारा में तमाम लोगों ने प्रसाद ग्रहण किया। सायं के समय देवी मंदिरों के परिसर में एकत्र हुईं महिलाओं ने ढोलक की थाप पर छंद गाते हुए देवी मां की महिमा का गुणगान किया।

बीसलपुर : नगर के दुर्गा देवी बड़ा मंदिर, छोटा मंदिर, नव दुर्गा मंदिर, बंगाली बाबा मंदिर, काली मंदिर, सहित क्षेत्र के अन्य देवी मंदिरों में भक्तों ने पूजा अर्चना की। छेदा लाल कॉलोनी स्थित गायत्री शक्तिपीठ परिसर में यज्ञ का आयोजन हुआ। संस्था के मुख्य ट्रस्टी सत्यपाल सिंह यादव की देखरेख में अनुष्ठान हुआ। इस मौके पर पूर्व पालिका अध्यक्ष छेदा लाल जायसवाल चीनी मिल के प्रधान प्रबंधक एसएन पाल सहित अन्य लोग मौजूद रहे। ग्राम कनपरा में मां दुर्गा की भव्य झांकी सजाई गई।

बिलसंडा : नवरात्र के अंतिम दिन में भक्तों ने हवन पूजन कर देवी स्थान मंदिर पर सामूहिक कन्या भोज कराया। कन्या भोज कराने में आशीष सक्सेना, विक्रम, नरेश जायसवाल, अवध नरेश जायसवाल, डीके गुप्ता, राम सिंह वर्मा रजत सागर, रजत कश्यप आदि लोग शामिल हुए।

बरखेड़ा : नवरात्र की नवमी को कन्या भोज हुआ। भक्तों ने कन्या भोज कराकर सिद्धिदात्री देवी का पूजन किया। मंदिरों में मां के जयकारे गूंजते रहे। देवी स्वरूप कन्याओं को हलवा, चना इत्यादि का भोज करा कर नवरात्र की विदाई की। इस मौके पर महिलाओं द्वारा माता के मंदिरों में छंद गाए गए।

Edited By: Jagran