पीलीभीत : राष्ट्रीय माध्यमिक शिक्षा अभियान के तहत राजकीय बालिका इंटर कालेज में एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया गया, जिसमें कक्षा आठ उत्तीर्ण छात्र-छात्राओं के कक्षा नौ में शत-प्रतिशत नामांकन पर विचार विमर्श किया गया।

कालेज सभागार में प्रधानाचार्य बबितारानी की अध्यक्षता में कार्यशाला आयोजित की गई, जिसमें बेसिक शिक्षा के पूर्व माध्यमिक विद्यालय की कक्षा आठ की परीक्षा पास करने वाले छात्र-छात्राओं का कक्षा नौ में जीआइसी व मान्यता प्राप्त स्कूलों में कराने पर विचार किया। प्रधानाचार्य ने कहा कि जनपद में गत वर्ष कक्षा आठ पास करने वाले कुल छात्र-छात्राओं की 36 हजार संख्या थी, जिनमें से मात्र 26 हजार ने ही कक्षा नौ में दाखिला लिया। दस हजार छात्र-छात्राओं का भविष्य अधर में लटक गया या अंधकारमय हो गया। अभियान के उद्देश्य को पूरा करने में बेसिक शिक्षा परिषद के अध्यापकों की भूमिका महत्वपूर्ण साबित हो सकती है। उन्होंने कहा कि कक्षा आठ पास करके जाने वाले प्रत्येक छात्र-छात्राओं को बगैर मान्यता वाले स्कूलों में प्रवेश लेने से रोकना होगा। राजकीय-मान्यता प्राप्त इंटर कॉलेजों में भेजने के लिए प्रेरित करें, जिससे उनका कक्षा नौ में शत-प्रतिशत नामांकन किया जा सके। प्रवेश 25 अप्रैल तक पूरे करने हैं। उन्हें सरकार से मिलने वाले लाभों से भी लाभान्वित किया जा सकेगा। कक्षा नौ में प्रवेश लेने वाली बालिकाओं के लिए न्यूरिया, बरखेड़ा और बिलसंडा में आवासीय परिसर के तहत हॉस्टल की सुविधा भी उपलब्ध गई गई है। इन हॉस्टल में रहकर भी शिक्षा ग्रहण कर सकतीं हैं। बालकों के लिए आवासीय विद्यालय के रूप में ड्रमंड राजकीय इंटर कॉलेज में कक्षा नौ में प्रवेश लिया जा सकता है। राजकीय बालिका इंटर कॉलेज न्यूरिया की प्रभारी प्रधानाचार्य सुख¨वदर कौर ने सरकार विभिन्न योजनाओं के बारे में जानकारी दी। उन्होंने कहा कि कहा कि राजकीय माध्यमिक शिक्षा अभियान के अंतर्गत सरकार विभिन्न योजनाओं को चला रही है, जिसमें कक्षा नौ में प्रवेश लेने वाले छात्र-छात्राओं को अल्पसंख्यक कल्याण विभाग, समाज कल्याण विभाग और अन्य पिछड़ा वर्ग कल्याण विभाग से प्रत्येक बच्चे को 2250 रुपये प्रतिवर्ष की छात्रवृत्ति का लाभ मिलेगा। ब्लाक संसाधन केंद्र मरौरी के सह समन्वयक अश्वनी कुमार गंगवार ने कहा कि बेसिक शिक्षा परिषद के पूर्व माध्यमिक विद्यालयों के प्रधानाध्यापकों से अपील है कि राष्ट्रीय माध्यमिक शिक्षा अभियान को सफल बनाने में शिक्षक-शिक्षिकाएं पूर्ण सहयोग प्रदान करें। शिक्षिक देवेंद्र कन्हैया, विजय कुमार, साजिदा खातून, सुमन त्रिपाठी आदि ने विचार रखे। कार्यशाला में श्वेता ¨सह, सुमन राठौर, सुशीला देवी, अर¨वद कुमार, वैभव जैसवार, गुरुवीर राना, शोभारानी, मनोरमा देवी, संघमित्रा गौतम, पूनम गंगवार, मनीषा त्रिपाठी, श्याम लाल गौतम, बाबू राम, नरेंद्र गंगवार आदि शिक्षक-शिक्षिकाएं मौजूद रहे।

इन योजनाओं का मिलेगा लाभ

राष्ट्रीय प्रतिभा खोज परीक्षा व एकीकृत छात्रवृत्ति योजना का ग्रामीण क्षेत्र के विद्यालयों में पढ़ने वाले छात्र-छात्राओं को छात्रों छात्रवृत्ति योजना का लाभ मिलेगा। नाममात्र का शिक्षण शुल्क लिया जाएगा। इंसेंटिव टू गर्ल फॉर सेकेंडरी एजुकेशन योजना के अंतर्गत कस्तूरबा गांधी विद्यालय से कक्षा आठ पास करने वाली समस्त छात्राओं को कक्षा नौ में प्रवेश लेने पर 3000 रुपये की प्रोत्साहन राशि दी जाएगी। अनुसूचित जाति व जनजाति की बालिकाओं को भी इस योजना के अंतर्गत 3000 रुपये प्रतिवर्ष प्रोत्साहन राशि दी जाएगी। इसके अलावा कक्षा दस पास करने के बाद कक्षा 11 में आने पर विभिन्न प्रकार के व्यवसाय पाठ्यक्रमों के लिए प्रोत्साहन धनराशि दी जाएगी, जिससे बालिकाएं आत्मनिर्भर बन सकेगी।

By Jagran