जागरण संवाददाता, नोएडा :

सेक्टर-46 स्थित कामर्शियल ग्राउंड में शनिवार को आम आदमी पार्टी की जन अधिकार रैली का आयोजन हुआ। इस दौरान पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक अर¨वद केजरीवाल, बीजेपी नेता शत्रुघ्न सिन्हा और पूर्व विदेश मंत्री यशवंत सिन्हा शामिल हुए। कार्यक्रम में यशवंत सिन्हा ने जहां कुछ नेताओं पर झूठ बोलकर राजनीति बदलने का आरोप लगाया। वहीं, शत्रुघ्न सिन्हा ने नोटबंदी को पूरी तरह से फेल बताया। इस दौरान यशवंत सिन्हा ने कहा कि देश की राजनीति बदल रही है। यह बदलाव कुछ नेताओं के झूठ बोलने की आदत की वजह से आया है। लेकिन भारत की जनता सब जानती है, वह झूठ बोलने वालों को जल्द जवाब देगी। शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा कि मैं मन की बात नहीं, दिल की बात करता हूं। मैं भाजपा में रहकर भी जनहित की बात करता हूं। अच्छे दिनों का ठेका फेल हो गया है। युवा अच्छा काम करने वालों का आकलन करके ही राजनीतिक दलों को मौका देंगे। जनता की बात करना और सच बोलना अगर बगावत है तो मैं बागी हूं। नोट बंदी के कारण कालाधन तो वापस नहीं आया, मित्रों के पास चला गया। डीजल और पेट्रोल के दाम पर सरकार मौन है और रुपया आइसीयू में चला गया है। अर¨वद केजरीवाल ने कहा कि आज देश बदलाव चाहता है। दिल्ली में शिक्षा में सुधार हो सकता है तो प्रधानमंत्री देश की शिक्षा में सही सुधार क्यों नहीं कर सकते हैं। दिल्ली में मोहल्ला क्लीनिक खोले गए हैं लेकिन प्रधानमंत्री बताएं कि देश मे कितने क्लीनिक खोले गए हैं। इसके साथ ही जनता को यह भी बताएं कि 540 करोड़ का लड़ाकू विमान 1600 करोड़ रुपये में क्यों खरीदा। हम यूपी की जनता की मांगों का समर्थन करते हैं कि प्रदेश को विभाजित करके चार राज्य बना दिये जाएं। संजय ¨सह ने कहा कि पेट्रोल-डीजल के दाम बढ़ रहे हैं, रुपया डालर के मुकाबले नीचे गिर रहा है लेकिन प्रधानमंत्री बेरोजगारों से पकौड़ा बेचने की बात करते हैं।

--

महिला ने किया हंगामा, संजय ¨सह पर लगाए रैली से निकालने का आरोप

रैली के दौरान एक महिला ने जमकर हंगामा काटा। लता मल्होत्रा नामक इस महिला ने खुद को पार्टी का कार्यकर्ता बताते हुए राज्यसभा सांसद संजय ¨सह पर रैली से निकालने का आरोप लगाया।

महिला का कहना था कि केजरीवाल सरकार शनिवार को दिल्ली में प्रदूषण कम करने के लिए पांच लाख पौधे लगा रही है। ऐसे में वह भी एक हजार रुपये खर्च करके 32 पौधे लेकर आई थीं। उन्होंने ये पौधे संजय ¨सह को देकर सभा में वितरित करने को कहा। लेकिन संजय ने उन्हें रैली से भगा दिया। इसके बाद महिला ने वहां पर जमकर हंगामा काटा। महिला का कहना था कि आप पार्टी को ईमानदार कार्यकर्ता नहीं चाहिए। अगर ईमानदार कार्यकर्ता की कदर नहीं है तो यह पार्टी भ्रष्ट है। इनके कार्यकर्ता तो छोड़ो, नेता तक दु‌र्व्यवहार करते हैं। पार्टी में तानाशाही का माहौल है। इसी वजह से इन्होंने योगेंद्र यादव और प्रशांत भूषण को पार्टी से निकाला। उन्होंने इस दौरान बदसुलूकी का भी आरोप लगाया और एफआइआर कराने की बात भी कही। वहीं, महिला के फोटो खींचने पर आप कार्यकर्ताओं द्वारा फोटोजर्नलिस्ट को मना किया गया और बदसुलूकी की गई।

--

रैली में दिखी अव्यवस्था

जनसभा में बड़े नेताओं के पहुंचते ही अव्यवस्था शुरू हो गई। कार्यक्रम को कवर करने के लिए मीडिया कर्मियों के लिए अलग से गैलरी बनाई गई थी। वहीं, नेताओं के मंच पर पहुंचते ही कार्यकर्ता मीडिया गैलरी में घुस गए। वहीं, मना करने के बावजूद भी वह वहां से टस से मस नहीं हुए। इससे वहां पर काफी अव्यवस्था फैल गई। बारिश के बाद तो लोग कुर्सी और सोफे आदि पर चढ़ गए।

Posted By: Jagran