जागरण संवाददाता, ग्रेटर नोएडा : प्रदूषण नियंत्रण को लेकर एनजीटी (राष्ट्रीय हरित अधिकरण) व सीपीसीबी (केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड) के आदेश पर अमल करते हुए उत्तर प्रदेश प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की टीम नियमित रूप से उद्योगों का निरीक्षण कर रही है। निरीक्षण के दौरान पर्यावरणीय अधिनियमों के खिलाफ संचालित पाए जाने पर यूपीपीसीबी की टीम ने जिले में संचालित दस उद्योगों को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है। संतोषजनक जवाब न मिलने पर सबंधित उद्योगों के खिलाफ उच्च स्तर पर कार्रवाई की संस्तुति की जाएगी। खास बात यह है कि पर्यावरणीय अधिनियमों के दोषी पाए गए सभी दस उद्योग कासना इलाके में स्थित हैं। बता दें कि पर्यावरण प्रदूषण को लेकर उच्च स्तर से यूपीपीसीबी को लगातार निर्देश मिल रहे हैं, जिस पर अमल करते हुए टीम नियमित तौर पर उद्योगों का निरीक्षण कर रही है। यूपीपीसीबी के क्षेत्रीय अधिकारी एके तिवारी के मुताबिक निरीक्षण अभियान आगे भी जारी रहेगा। ज्ञात हो कि इससे पहले पर्यावरणीय अधिनियमों का उल्लंघन करने के आरोप में यूपीपीसीबी ने जिले के सात उद्योगों पर बंदी की कार्रवाई की है।

इन उद्योगों को दी गई नोटिस :

श्री गणेश इंटरप्राइजेज कासना

प्रवीण एसोसिएटेस कासना

एजे ट्रेडर्स कासना

विकास ट्रेडर्स कासना

शिव इंटरप्राइजेज कासना

सुभाष बि¨ल्डग मैटेरियल सप्लायर कासना

विकास ट्रेडर्स कासना

गायत्री बिल्डिकान कासना

श्री गणपति इंटरप्राइजेज कासना

एमके कांट्रेक्टर कासना

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस