जागरण संवाददाता, नोएडा :

सेक्टर 61 स्थित इंद्रप्रस्थ सोसायटी में बीटेक की छात्रा के फ्लैट में घुसे 11वीं के छात्र की संदिग्ध हालत में बालकनी से गिरकर मौत हो गई। छात्रा भी गंभीर रूप से घायल है। उसका फोर्टिस अस्पताल में इलाज चल रहा है। छात्रा के गले सहित अन्य जगह धारदार हथियार से चोट के निशान है। कोतवाली सेक्टर 58 पुलिस मामले की जांच में जुटी है। गाजियाबाद के निजी इंजीनियरिग कॉलेज में बीटेक की 21 वर्षीय छात्रा का परिवार सेक्टर 61 स्थित इंद्रप्रस्थ सोसायटी के आठवें फ्लोर पर रहता है। छात्रा के पिता भारत सरकार के एक सार्वजनिक उपक्रम में सीनियर अधिकारी हैं। पुलिस के अनुसार बृहस्पतिवार शाम छात्रा अपने फ्लैट में अकेली थी। इसी सोसायटी के दूसरे टॉवर में रहने वाला 15 वर्षीय किशोर 11वीं का छात्र था। शाम करीब साढ़े पांच बजे छात्र छात्रा के फ्लैट में पहुंचा। इस दौरान वहां दोनों में किसी बात को लेकर विवाद हुआ। पुलिस के अनुसार शुरुआती दौर में छात्रा ने बताया है कि छात्र ने चाकू से हमला व मारपीट कर उसे घायल कर दिया। शोर मचाने पर उसने अपने को फ्लैट के अंदर ही बंद कर लिया था। पुलिस के अनुसार इसके बाद संदिग्ध हालत में छात्र बालकनी से कूद गया व उसकी मौत हुई है। छात्रा के परिवार में माता-पिता के अलावा एक बड़ी बहन है। बृहस्पतिवार सुबह छात्रा की बड़ी बहन व पिता दफ्तर चले गए थे। वह बृहस्पतिवार को कॉलेज नहीं गई थी। उधर, घटना की जांच के लिए स्थानीय पुलिस के अलावा मोबाइल फोरेंसिक टीम भी पहुंची। फ्लैट के अंदर काफी खून बिखरा था। चीख पुकार सुन मदद के लिए पहुंचे थे पड़ोसी -

पड़ोस में रहने वाली एक युवती ने बताया कि शाम करीब साढ़े पांच बजे अचानक विवाद की आवाज सुनाई दी। काफी देर तक पता करने के बाद वह लोग छात्रा के फ्लैट के बाहर पहुंचे। तबतक अंदर से छात्रा द्वारा बचाने व उसके चीखने की आवाज आने लगी। उसके बाद जानकारी होने पर छात्रा की मां भी पहुंची। पहले दरवाजे के ऊपर खिड़की के शीशे को तोड़ा गया। फिर चाबी से दरवाजे का लॉक खोलकर जब उसकी मां अंदर पहुंची तो छात्रा ने थोड़ी घटना की जानकारी दी। इस बीच छात्र फ्लैट के अंदर ही छिपा था। इसके बाद लोगों ने छात्रा को बाहर निकाल फ्लैट के दरवाजे को बाहर से बंद कर दिया। आस-पास के लोगों के अनुसार करीब 20 मिनट बाद सूचना पर पुलिस पहुंची व फिर दरवाजा खोला जाता उससे पहले ही छात्र ने बालकनी से संदिग्ध हालत में दूसरी तरफ कूद गया। छात्रा के बयान व मोबाइल सर्विलांस पर टिकी पुलिस की जांच -

पुलिस का कहना है कि अबतक घटना का कारण साफ नहीं हो सका है। छात्रा का अभी गंभीर स्थिति में इलाज चल रहा है। छात्रा की स्थिति में सुधार होने पर उससे बातचीत में पूरा घटनाक्रम साफ हो सकेगा व घटना का कारण भी सामने आ सकेगा। मोबाइल सर्विलांस के जरिए पुलिस यह जानने का प्रयास कर रही है कि क्या यह दोनों पहले से कब से संपर्क में थे। पुलिस का मानना है कि दोनों के मोबाइल फोन व छात्रा के बयान से काफी कुछ स्थिति साफ होगी। सोसायटी में लगे कैमरों की फुटेज की भी पुलिस जांच करेगी। उधर, छात्रा की मां ने कहा कि छात्र के परिवार से उन लोगों की कोई ऐसी पहचान नहीं है। सोसायटी में रहने की वजह से वह जानता होगा, हालांकि उसका घर आना-जाना नहीं था।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप