जागरण संवाददाता, ग्रेटर नोएडा : बिसरख कोतवाली क्षेत्र स्थित शाहबेरी में अवैध रूप से फ्लैट बनाने के मामले में पुलिस ने दो बिल्डर को गिरफ्तार किया है। आरोपितों ने ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण से बिना नक्शा पास कराए शाहबेरी में फ्लैट बनाए थे। दोनों ने मिलकर 50 से अधिक फ्लैट लोग को धोखाधड़ी कर बेचे थे और धन अर्जित किया था। दोनों आरोपितों को कोर्ट में पेश किया गया, वहां से उन्हें जेल भेज दिया गया।

गौरतलब है कि शाहबेरी में 17 जुलाई 2018 को दो अवैध इमारतें गिर गई थीं, जिनके मलबे में दबने से नौ लोग की मौत हो गई थी। घटना के एक हफ्ते बाद तक मलबा हटाने का कार्य चला था। दो साल बाद पुलिस ने 50 से अधिक फ्लैट बेचने के आरोपित हीरेंद्र कांत शर्मा व अशोक गोस्वामी को गिरफ्तार किया है। दोनों आरोपित गाजियाबाद के रहने वाले हैं। पुलिस ने बताया कि आरोपितों ने शाहबेरी में अवैध रूप से फ्लैट का निर्माण कराया था और लोग को धोखा देकर अवैध तरीके से फ्लैट बेचकर धन अर्जित किया था। 86 लोग के खिलाफ मुकदमे हो चुके हैं दर्ज

पुलिस ने बताया कि शाहबेरी मामले में अब तक 86 लोग के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया जा चुका है। आरोपितों पर गैंगस्टर एक्ट के तहत भी कार्रवाई की जा चुकी है। पूर्व में शाहबेरी के गुनहगार शाहबुद्दीन व एक अन्य पर जिला प्रशासन रासुका की कार्रवाई भी कर चुका है।

शाहबेरी मामले में दो आरोपितों को गिरफ्तार किया गया है। दोनों ने अवैध रूप से फ्लैट बेचकर धन अर्जित किया था। इस मामले में कार्रवाई लगातार जारी है।

हरीश चंदर, डीसीपी सेंट्रल नोएडा

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस