मनीष तिवारी, ग्रेटर नोएडा:

विधानसभा चुनाव की रणभेरी बजते ही पार्टियों के योद्धा ने विरोधी को चित कर जीत दर्ज करने के लिए वादे व दावों की पोटली के साथ ही तीखे व्यंग बाणों से तरकश भर लिया है। चुनावी मैदान में योद्धा का सम्मान भी है। सम्मान का नजारा मंगलवार को नामांकन के दौरान देखने को मिला। एक ही विधानसभा से चुनाव लड़ने वाले कांग्रेस व बसपा के प्रत्याशी ने सपा रालोद गठबंधन के प्रत्याशी राजकुमार भाटी का पैर छूकर जीत के लिए आशीर्वाद मांगा। बड़प्पन दिखाते हुए राजकुमार ने उन्हें गले लगाया और आशीर्वाद दिया।

चुनाव में राजनीति के रंग अक्सर बदलते रहते हैं। सभी पार्टियों के झंडे के रंग व चुनाव निशान अलग-अलग होते हैं। कब किस दल का किससे समझौता हो जाए और किस पार्टी की टोपी किसके सिर सज जाए कुछ कहा नहीं जा सकता है। पार्टियां अक्सर इसी नीति पर राजनीति करती हैं। पार्टियों की इसी नीति से सबक लेते हुए प्रत्याशी भी राजनीति करते हुए कदम बढ़ाते हैं। एक-दूसरे दल के नेता पर आरोप प्रत्यारोप लगाने के साथ ही सम्मान भी करते हैं। जिससे सम्मान भी बना रहे और राजनीति भी होती रहे। दादरी विधानसभा सीट से कांग्रेस ने दीपक भाटी चोटीवाला व बसपा ने मनवीर भाटी को प्रत्याशी बनाया है। सपा रालोद गठबंधन के प्रत्याशी राजकुमार भाटी हैं। जीत के लिए तीनों नेता रात दिन मेहनत कर रहे हैं। तीनों नेताओं ने मंगलवार को कलक्ट्रेट पहुंचकर नामांकन पत्र भरा। इस दौरान विभिन्न पार्टी के कार्यकर्ताओं के साथ ही पुलिसकर्मी, अधिकारी व अन्य लोग भी मौजूद थे। नामांकन पत्र भरने के लिए आने-जाने के दौरान तीनों नेताओं की नजरें भी लड़ी। एक दूसरे से नजर बचाकर जाने की बजाय हंसकर मुलाकात की। दीपक भाटी चोटीवाला ने झुककर दोनों हाथों से राजकुमार का पैर छुआ। उन्हें देखकर दीपक के समर्थकों ने भी राजकुमार के पैर छुए। राजकुमार जैसे ही थोड़ा आगे बढ़े बसपा प्रत्याशी मनवीर भाटी भी राजकुमार के पास पहुंचे पैर छुए और गले लग गए। उपस्थित लोगों ने सम्मान के साथ ही राजनीति का भी नजारा देखा व समझा।

Edited By: Jagran