जागरण संवाददाता,नोएडा :

एनसीआर के लोगों को सुकून के पल बिताने के लिए शीघ्र ही नोएडा में एक बेहतर पिकनिक स्पॉट मिलेगा। नोएडा प्राधिकरण यूएसए और यूरोप की तर्ज देश का पहला इको हब विकसित कर रहा है। इसका निर्माण कार्य तेजी से किया जा रहा है। जुलाई में इको हब को आम जनता के लिए खोल दिया जाएगा। इसमें एक तरफ लोग अपने परिवार और दोस्तों के साथ घनी हरियाली और शांत वातावरण में बैठकर सुकून हासिल कर सकेंगे, वहीं दूसरी तरफ राष्ट्रीय पक्षी मोर व विभिन्न प्रजातियों के साइबेरियन पक्षियों की चहल-कदमी का भी आनंद उठा सकेंगे।

137 मेट्रो स्टेशन के समीप इको हब के रूप में 144 एकड़ जमीन पर ग्रीन लंग्स बनाया जा रहा है। इसमें पशु-पक्षी अभयारण्य के अलावा एनिमल ब्रिज भी शामिल हैं। यह ब्रिज 144 एकड़ ग्रीन लंग्स के दो हिस्सों को आपस में जोड़ेगा। इसमें एक प्राकृतिक वेटलैंड भी शामिल है। विकसित होने के बाद यह यूरोप-यूएसए के शहर में विकसित अभयारण्य की तरह ही दिखेगा। इस तरह का यह देश का पहला अभयारण्य होगा। यह शहर की खूबसूरती को बढ़ाने के साथ ही पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए काफी सहायक होगा। इस परियोजना को लेकर सोमवार को एक बैठक प्रस्तावित की गई, जिसमें इस परियोजना को लेकर किए जा रहे कार्य को देखा गया और निर्देश दिए गए। मेट्रो स्टेशन के समीप होने की वजह से समूचे एनसीआर के लोग आसानी से यहां पहुंच सकेंगे।

यहां प्राकृतिक वेटलैंड में नील गाय, मोर के अलावा कई जंगली पशु पक्षी रहेंगे। इसी तरह तितलियों की कई प्रजातियां, मछलियों के अलावा अनेक प्रकार के जलीय जीव के अलावा कॉमन मूरहेन, ब्लैक हेडड इबिस, ब्लैक विग्ड स्टिल, कैलट एग्रेट, व्हाइट बेबेस्टेड वाटर हेन, इंडियन पांड हेरोन, व्हाइट थ्रोटेड किगफिशर, नाइट हेरान, लिटिल ग्रीब शामिल हैं। इसमें ब्लैक हेडेड इबिस विलुप्त होने वाली एक प्रजाति है।

---------------

एनिमल ब्रिज के जरिये मिलेगी कनेक्टिविटी

जिस प्राकृतिक वेटलैंड को जोड़कर इकोहब बनाया जा रहा है, उसमें तीन अन्य ग्रीन हब भी शामिल हैं। यह चारों एक एनिमल ब्रिज से आपस में जुड़ जाएंगे। इस एनिमल ब्रिज को ग्रीनरी में तब्दील किया जाएगा। यह जानवरों के लिए आने जाने का एक मार्ग होगा। साथ ही इसके साथ एक सर्विस रोड बनाई जाएगी, जो लोगों के लिए होगी। ब्रिज के नीचे पानी होगा, जहां पशु पक्षी देखे जा सकेंगे। इसके अलावा पानी का एक स्रोत भी होगा।

-------------

ऐसे बन रहा है इको हब

देश में पहला 144 एकड़ में बनने वाले इकोहब में महज 12 एकड़ प्राकृतिक वेटलैंड होगा। इसके अलावा शेष एरिया कृत्रिम रूप से तैयार किया जा रहा है। इसमें एक तरफ 12 एकड़ के वेटलैंड के साथ 25 एकड़ में मेडिसिनल पार्क होगा और दूसरी तरफ 75 एकड़ में बॉयो डायर्वसिटी पार्क व 32 एकड़ की ग्रीन बेल्ट होगी। इसको विकसित करने के लिए यहां वेटलैंड की झील के पानी को साफ किया जा रहा है।

-----------

देश का पहला ग्रीन लंग्स होगा। जिसमें पशु पक्षी वास करेंगे, साथ ही लोगों के लिए यह पर्यटन व आकर्षण का केंद्र बनेगा। इसका निर्माण जल्द पूरा कर लिया जाएगा। यहां कार्य शुरू कर दिया गया है।

-राजीव त्यागी, महाप्रबंधन नोएडा प्राधिकरण

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप