जागरण संवाददाता, ग्रेटर नोएडा: हाइटेक सिटी गौतमबुद्ध नगर में तीन से चार घंटे बिजली कटौती की समस्या झेल रहे उद्यमियों की चिता एनजीटी के नए नियम से बढ़ गई है। नए आदेश के तहत 30 सितंबर के बाद रेट्रो फीटिग जेनरेटर का उपयोग करना होगा। साथ ही 30 सितंबर के बाद मात्र नई तकनीक के जेनरेटर का उपयोग एक दिन में सिर्फ दो घंटे ही कर सकते हैं।

इस अवसर पर विशारद गौतम ने बताया कि पर्यावरण प्रदूषण को देखते हुए एनजीटी ने नया नियम बना दिया है। नियम के तहत 30 सितंबर के बाद रेट्रो फिटिग जेनरेटर का ही उपयोग किया जा सकेगा। इस जेनरेटर में 70 प्रतिशत पीएनजी व 30 प्रतिशत डीजल का उपयोग होता है। उद्यमियों ने बताया कि बाजार में अभी इस प्रकार का जेनरेटर उपलब्ध नहीं है। इस कारण मांग की जा रही है कि 30 सितंबर की तिथि को आगे बढ़ाया जाए। उद्यमियों ने कहा कि सरकार के आदेशों का बिजली कंपनी एनपीसीएल पर कोई असर नहीं है। प्रतिदिन तीन से चार घंटे की कटौती हो रही है। इस कारण काम प्रभावित हो रहा है। आने वाले समय में यदि व्यवस्था में सुधार नहीं हुआ तो नए नियम से परेशानी और बढ़ जाएगी। इस अवसर पर राजीव सूद, सर्वेश गुप्ता, एसपी शर्मा, अमित शर्मा, राकेश बंसल, प्रमोद गुप्ता, हिमांशु पांडे, शोएब अहमद, सरबजीत सिंह सहित अन्य लोग मौजूद थे।

------------

नई कार्यकारिणी का गठन

इस दौरान इंडियन इंडस्ट्रीज एसोसिएशन ग्रेटर नोएडा चैप्टर की नई कार्यकारिणी का गठन किया गया। सर्वसम्मति से जितेंद्र सिंह राणा को चेयरमैन चुना गया। जेड रहमान, सरबजीत सिंह, मुकेश अग्रवाल व विपिन मिश्रा को वाइस चेयरमैन चुना गया। झंडा समारोह के दौरान पूर्व चेयरमैन विशारद गौतम ने उन्हें नई जिम्मेदारी सौंपी। जितेंद्र सिंह ने कहा कि सदस्यों की मूलभूत समस्याओं का समाधान कराना उनकी प्राथमिकता होगी। लोगों को साथ जोड़कर संगठन को मजबूती दी जाएगी।

Edited By: Jagran