जागरण संवाददाता, ग्रेटर नोएडा : वायुमंडल में अचानक से बढ़े प्रदूषण को लेकर जिलाधिकारी की तरफ से दिए गए निर्देशों का पालन करते हुए ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण ने शुक्रवार को ग्रेटर नोएडा वेस्ट में संचालित निर्माण कार्यों को अगले 48 घंटे के लिए बंद करा दिया है। साथ ही धूल को उड़ने से रोकने के लिए धूल भरी सड़कों व भवन निर्माण साइट्स पर पानी का छिड़काव किया गया। इस कार्य में 26 टैंकर लगाए गए, जिनके जरिये लगभग 65 किलोमीटर सड़क पर पानी का छिड़काव हुआ। ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के एसीईओ केके गुप्ता ने बताया कि प्रदूषण नियंत्रण को लेकर उच्च स्तर से जो भी दिशानिर्देश प्राप्त होंगे हर हाल में उनका अनुपालन होगा। शुक्रवार को जिन जगहों पर पानी का छिड़काव किया गया, उनमें ज्यादातर सेक्टर इकोटेक-1 व 3, सेक्टर-पी-थ्री, होंडा चौक, एक्सप्रेसवे व ग्रेटर नोएडा वेस्ट का इलाका शामिल रहा। उल्लेखनीय है कि राजस्थान से आ रही हवाओं के कारण अचानक बढ़े प्रदूषण पर संज्ञान लेते हुए जिलाधिकारी बीएन ¨सह ने नोएडा, ग्रेटर नोएडा व यमुना प्राधिकरण के साथ ही मुख्य विकास अधिकारी, तीनों एसडीएम व अन्य प्रशासनिक विभागों को पत्र लिखकर त्वरित कार्रवाई करने का निर्देश दिया था। जिलाधिकारी ने अपने पत्र में एनजीटी (राष्ट्रीय हरित अधिकरण) द्वारा बनाए गए ग्रेड रिस्पांस एक्शन प्लान (ग्रैप) का हवाला देते हुए धूल भरी जगहों पर नियमित रूप से पानी के छिड़काव करने, भवन निर्माण रोकने व स्टोन क्रेशर तथा हॉट मिक्स प्लांट को बंद कराने का आदेश दिया था।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस