ग्रेटर नोएडा [धर्मेंद्र चंदेल]। बसपा के किले को ध्वस्त कर भाजपा गौतमबुद्धनगर में पूरी तरह हावी हो गई है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का जादू लोगों के सिर चढ़कर बोल रहा है। गौतमबुद्धनगर पूर्व मुख्यमंत्री मायावती का गृह जनपद है, लेकिन उनका जादू लोगों के सिर से पूरी तरह से उतर चुका है। जिले के अधिकांश बड़े नेता और कार्यकर्ता अन्य दलों का दामन छोड़ भाजपा में शामिल हो गए हैं। इससे जिला भले ही भाजपा का गढ़ बन गया है, लेकिन एक छत के लिए नीचे सभी का समायोजन बड़ी चुनौती भी है।

यही कारण है कि जिलाध्यक्ष और नोएडा महानगर अध्यक्ष का चुनाव अभी अखाड़े में फंसता नजर आ रहा है। केंद्र और प्रदेश में सत्ता होने की वजह से ज्यादातर कार्यकर्ता की चाहत जिलाध्यक्ष और महानगर अध्यक्ष बनने की है। दोनों पदों के लिए नेताओं की लंबी फेहरिस्त ने पार्टी के वरिष्ठ नेताओं की चिंता बढ़ा दी है। एक को खुश करने के चक्कर में कई की नाराजगी झेलनी पड़ सकती है। इस वजह से पार्टी नेता अभी चुप्पी साधे हुए हैं। हालांकि, अंदरखाने गोटी बैठाई जा रही है।

दरअसल, 2017 विधान सभा चुनाव से पहले जिले में पूर्व केंद्रीय मंत्री व सांसद महेश शर्मा का एकक्षत्र राज था। इससे पिछली बार जिलाध्यक्ष और महानगर अध्यक्ष चुनने में पार्टी को परेशानी नहीं उठानी पड़ी। दोनों जगह महेश शर्मा के करीबी विजय भाटी और राकेश शर्मा को जिम्मेदारी दे दी गई।

2017 के विधान सभा चुनाव में केंद्रीय रक्षामंत्री राजनाथ सिंह के बेटे पंकज सिंह का जिले की राजनीति में पर्दापण हुआ। नोएडा से वे रिकार्डमतों से विधायक चुने गए, जबकि जेवर क्षेत्र के कद्दवर नेता धीरेंद्र सिंह कांग्रेस व दादरी से तेजपाल नागर बसपा छोड़कर भाजपा में आ गए। दोनों ही विधायक बने।

गत लोकसभा चुनाव में पूर्व मंत्री वेदराम भाटी, पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष बिजेंद्र भाटी भी बसपा और सपा छोड़कर भाजपा में शामिल हो गए। पश्चिमी उत्तर प्रदेश में गुर्जरों के कद्दावर नेता व राज्यसभा सदस्य सुरेंद्र नागर भी अब भाजपा में शामिल हो गए हैं।

पहले से कई बड़े नेता गन्ना संस्थान के अध्यक्ष नवाब सिंह नागर, राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष बिमला बाथम, राज्य पिछड़ा आयोग के सदस्य बिजेंद्र भाटी, वरिष्ठ नेता तेजा गुर्जर, कृषि अनुसंधान परिषद के अध्यक्ष कैप्टन विकास गुप्ता, विधान परिषद (शिक्षक) का चुनाव लड़ रहे श्रीचंद शर्मा व सतेंद्र शिशोदिया भाजपा में हैं। इन सबकी अलग-अलग पंसद है।

सभी अपने-अपने चेहते कार्यकर्ताओं को अध्यक्ष पद की कुर्सी पर काबिज कराना चाहते हैं। इससे अध्यक्ष पद के चुनाव में रस्साकसी होने की पूरी संभावना है। जिलाध्यक्ष पद के लिए मौजूदा अध्यक्ष विजय भाटी, सुभाष भाटी, चंद्रवीर नागर, मुकेश नागर, आनंद भाटी, बलराज भाटी, सतीश गुलिया, राजा रावल, धर्मेंद्र भाटी, सुनील शर्मा, सेवानंद शर्मा, राहुल पंडित, प्रो. सुनील शर्मा, दीपक भारद्वाज दौड़ में हैं। जबकि, नोएडा महानगर अध्यक्ष पद के लिए ब्रजपाल चौहान, युद्धवीर चौहान, महेश चौहान, संजय बाली, विनोद शर्मा, मनीष शर्मा, धर्मेंद्र गुप्ता व चंदगीराम यादव आदि कई नेता दौड़ में बताए जा रहे हैं।

दिल्ली-NCR की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां पर करें क्लिक

30 लाख लोगों की लाइफ लाइन Delhi Metro आखिर क्यों दे रही बार-बार दगा?

Delhi Metro E-auto: अब दिल्ली में चलेंगे ई-ऑटो, Delhi Metro तेजी से कर रहा तैयारी

छात्र की कब्र पर 'वह' रोज छिड़कता था परफ्यूम, ऐसे खुला 6 ft नीचे दबी का लाश का राज

Posted By: JP Yadav

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप