ग्रेटर नोएडा, आनलाइन डेस्क। दिल्ली-एनसीआर के दिग्गज गुर्जर नेताओं में शुमार अवतार सिंह भड़ाना ने बृहस्पतिवार को 12 घंटे के दौरान कुछ ऐसा राजनीतिक दांव चला कि मीडिया के साथ राजनीतिक दल भी भौचक्के रह गए। एकबारगी लगा कि अवतार सिंह भड़ाना ने राष्ट्रीय लोकदल के मुखिया जयंत चौधरी के साथ सपा सुप्रीमो अखिलेश यादव को भी दगा दे दिया, लेकिन 12 घंटे से भी कम समय में अवतार सिंह के एक ट्वीट ने सारे कयासों पर पानी फेर दिया। वहीं, इंटरनेट मीडिया पर अवतार के इस नए अवतार पर चर्चा होने लगी।

दरअसल, जेवर विधानसभा सीट से समाजवादी और राष्ट्रीय लोकदल के संयुक्त प्रत्याशी अवतार सिंह भड़ाना ने बृहस्पतिवार दोपहर में कहा कि वह कोरोना पाजिटिव होने के कारण चुनाव नहीं लड़ेंगे। यह खबर मीडिया की सुर्खियां बनीं। समाजवादी पार्टी और राष्ट्रीय लोकदल के नेता भी हैरान रह गए। यहां तक कि राष्ट्रीय लोकदल ने जेवर सीट के लिए नया प्रत्याशी भी घोषित कर दिया, लेकिन बृहस्पतिवार रात को अवतार सिंह ने ट्वीट कर सबको हैरान कर दिया। उन्होंने कहा- 'हमारे पूर्वजों का गौरवशाली इतिहास रहा है। चाहे कोई भी मैदान हो। समाज के लिए, उनके अधिकारों के लिए, गरीबों के लिए वीरता से जंग लड़ी है। कोरोना के शुरुआती लक्षण थे लेकिन RTPCR की रिपोर्ट में कोरोना नहीं है। अपनों के लिए चुनाव लड़ूंगा। अवतार सिंह ने आगे लिखा कि वह चुनाव लड़ेंगे भी और जीतेंगे भी।' बहरहाल अब जेवर सीट पर अवतार सिंह भड़ाना ही सपा-रालोद के संयुक्त प्रत्याशी हैं। 

कहा जा रहा है कि सपा रालोद गठबंधन के प्रत्याशी अवतार सिंह भड़ाना ने बृहस्पतिवार को कोरोना संक्रमित होने के कारण चुनाव ना लड़ने की घोषणा की थी। रात 10 बजे उन्होंने ट्वीट कर दोबारा से चुनाव लड़ने की जानकारी दी थी । उनके चुनाव से कदम पीछे खींचने के बाद रालोद ने पार्टी के नेता इंद्रवीर भाटी को प्रत्याशी बना दिया था। साथ ही उन्हें पार्टी का सिंबल भी दे दिया था।

हैरानी का बात तो यह है कि शुक्रवार को इंद्रवीर भाटी अपनी टीम के साथ नामांकन दाखिल करने के लिए पहुंचे थे। उसी दौरान अवतार सिंह भड़ाना भी पहुंचे , दोनों के बीच वार्ता हो गई । इंद्रवीर भाटी ने नामांकन दाखिल करने से कदम पीछे खींच लिया। अवतार सिंह भड़ाना ने नामांकन का तीसरा सेट भी दाखिल किया है। तीसरे सेट में पूर्व की कुछ कमियों को सही किया गया है।

Edited By: Jp Yadav