नोएडा, जागरण संवाददाता। वस्तु एवं सेवा कर में चोरी व हेराफेरी पर लगाम कसने को राज्य कर विभाग की ओर से सोमवार को बड़े स्तर पर कार्रवाई की गई। पूरे प्रदेश में 248 टीमों द्वारा छापा मारा गया। गौतमबुद्ध नगर में 12 स्थानों पर 10 टीम ने एक साथ कार्रवाई की। शाहबेरी, दनकौर, कासना, हल्दौनी, छपरौला, सेक्टर 80, सेक्टर 9, सेक्टर 10 स्थित व्यापारियों के यहां देर शाम तक छानबीन की गई।

इसमें पांच उद्योग और पांच व्यापारी शामिल हैं। इनमें से पांच जगहों पर जांच चल रही है। वहीं सात के यहां कार्रवाई पूरी हो गई है। टीम द्वारा 11 बिल बुक को जब्त किया गया है। शुरुआती जांच में करोड़ों की हेराफेरी सामने आई है।

जीएसटी चोरी की संभावना

अपर आयुक्त राज्य कर विभाग अदिति सिंह ने बताया कि विभाग को जानकारी मिली थी की कुछ व्यापारियों व उद्यमियों द्वारा जीएसटी चोरी और इनपुट टैक्स क्रेडिट में हेराफेरी की जा रही थी। ऐसे फर्मों को चिह्नित कर जीएसटी पोर्टल से उन पर निगरानी रखी गई। जांच में गड़बड़ी सामने आई। इसके बाद कार्रवाई की तैयारी की गई। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पिछले दिनों टैक्स चोरी करने वालों पर सख्त कार्रवाई के निर्देश जारी कर कर संग्रह बढ़ाने को कहा था। इसी के तहत पूरे प्रदेश में कार्रवाई की गई।

यहां की कार्रवाई

सोमवार को टीम ने नोएडा सेक्टर-80 स्थित साइमैक्स प्रिसीजन इंडस्ट्री, ए वन इंजीनियरिंग वर्क्स व ए वन इंजीनियरिंग वर्क्स प्राइवेट लिमिटेड, सेक्टर 10 स्थित आसिफ शीट कटर, सेक्टर 9 स्थित नेशनल यूपीवीई प्रोजेक्ट्स, ग्रेटर नोएडा के सूरजपुर स्थित शाइन कास्मेटिक, हल्दौनी स्थित राणा फर्नीचर, कासना स्थित न्यू मूल आटोमाबाइल्स, दनकौर स्थित सुपर ट्रेडिंग, शाहबेरी स्थित इरशाद फर्नीचर व रिहान फर्नीचर मार्केट और छपरौला स्थित नसीम ग्लास ट्रेडर्स शामिल हैं।

सुबह करीब 10 बजे सभी टीम ने एक साथ कार्रवाई शुरू की। सेक्टर 80, सेक्टर 10 व सेक्टर 9 स्थित फर्मों पर जांच की कार्रवाई जारी है, बाकी सात की कार्रवाई पूरी हो गई है। इन सातों जगह से 11 बिल बुक और जीएसटी बिल जब्त किए गए हैं। इन बिल बुक की जांच कर आगे की कार्रवाई की जाएगी। प्रथम दृष्टया करोड़ों की हेराफेरी से जानकारी सामने आई है।

Edited By: Geetarjun

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट