नोएडा, जागरण संवाददाता। खुद को पुलिस और क्राइम ब्रांच का सदस्य बताकर मारपीट कर लूटपाट करने वाला शातिर लुटेरा सोमवार को फेज वन कोतवाली पुलिस संग हुई मुठभेड़ में घायल हो गया। घायल बदमाश की पहचान इटावा के बकैवर थानाक्षेत्र के अलियापुर गांव के दिपांशु उर्फ बंटी के रूप में हुई है, जो वर्तमान में ग्रेटर नोएडा में रह रहा था। आरोपित के पास से लूट के साढ़े सात हजार रुपये, मोटरसाइकिल,तमंचा और कारतूस बरामद किया गया है।

सोमवार दोपहर को बंटी के साथी श्यामवीर को पुलिस ने दबोचा था। उसके पास से लूट के 8500 रुपये, लूट की घटना में प्रयोग हुई कार और पुलिस का फर्जी आइकार्ड बरामद हुआ था। गिरोह में शामिल एक अन्य आरोपित की गिरफ्तारी के लिए पुलिस की टीमें नोएडा सहित अन्य ठिकानों पर दबिश दे रही हैं। श्यामवीर से पुलिस को बंटी के बारे में जानकारी मिली थी।

कुरियर ब्वॉय का अपहरण कर लूट

एडिशनल डीसीपी आशुतोष द्विवेदी ने बताया कि एक दिसंबर को बंटी और श्यामवीर ने फेज वन कोतवाली क्षेत्र से एक कुरियर ब्वाय को अगवा कर लिया था और उसे कार में बिठाकर दो हजार लूटे। बाद में 34 हजार रुपये एटीएम से निकलवाए गए। श्यामवीर को गिरफ्तार करने के बाद पुलिस की टीम को बंटी के बारे में जानकारी हुई। इसके बाद पुलिस की टीम ने श्यामवीर से बंटी से बात करवाई और महामाया फ्लाईओवर के पास बुलवाया।

रात नौ बजे के करीब बंटी जब महामाया फ्लाईओवर के पास पहुंचा तो पुलिस को देख उसने टीम पर फायर झोंक दिया। जवाबी कार्रवाई में पुलिस की एक गोली बदमाश के पैर में लग गई। घायल बदमाश को उपचार के लिए जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। घटना का एक 28 सेकेंड का वीडियो प्रसारित हुआ है,जिसमें घायल बदमाश रोते हुए दिख रहा है।

ये भी पढ़ें- Noida: ठेकेदारों की मनमानी, टेंडर खत्म होने के बाद भी पार्किंग फीस वसूल रहे ठेकेदार कर्मचारी

संदिग्ध दिखने पर करता था वारदात

एसीपी सुशील गंगा प्रसाद ने बताया कि शातिर दिपांशु और गिरोह के अन्य शातिर रात में जब किसी को संदिग्ध अवस्था में देखते थे तो खुद को पुलिस और क्राइम ब्रांच का अधिकारी बताकर उसे कार में बिठा लेते थे और तमंचे का भय दिखाकर लूटपाट करते थे। किसी युवती या महिला के साथ जब बदमाश किसी युवक को देखते थे तो उसे भी निशाना बना लेते थे। पूछताछ में आरोपितों ने बताया कि उन्होंने अबतक ऐसी करीब 12 वारदात की है। हालांकि महज तीन मामले में पीड़ित ने मामले की शिकायत पुलिस से की थी।

ये भी पढ़ें- Noida: राज्य कर विभाग की 10 टीम ने 12 फर्मों पर की कार्रवाई, करोड़ों की हेराफेरी की आसंका

पुलिस कमिश्नर की थी मामले पर नजर

घटना के बाद पुलिस कमिश्नर लक्ष्मी सिंह ने पीड़ित युवक से मुलाकात की और घटनास्थल पर जाकर पूरी घटना की जानकारी ली। पुलिस कमिश्नर ने पीड़ित युवक को आरोपितों की जल्द गिरफ्तारी का भरोसा दिया था। मामले से जुड़ी हर अपडेट पर उनकी पूरी नजर रही।

Edited By: Geetarjun

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट