ग्रेटर नोएडा (प्रवीण सिंह)। ग्रेटर नोएडा में तैनात डीसीपी राजेश कुमार सिंह की फर्जी फेसबुक आइडी बनाकर ठगों ने उनके दोस्तों को फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजी। जब दोस्तों ने फ्रेंड रिक्वेस्ट स्वीकार कर ली तो आरोपितों ने रुपयों की मांग शुरू कर दी। आरोप है कि डीसीपी के पचास से अधिक दोस्तों से रुपयों की डिमांड की गई। मामले में डीसीपी की शिकायत पर साइबर सेल में मुकदमा दर्ज किया गया है।

दोस्‍तों ने किया फोन तब चला पता

दरअसल, डीसीपी ग्रेटर नोएडा राजेश कुमार सिंह की फेसबुक आइडी से फोटो का इस्तेमाल कर साइबर ठगों ने फर्जी फेसबुक आइडी बना ली। फर्जी आइडी बनाने के बाद आरोपितों ने डीसीपी के दोस्तों को फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजी। इसके बाद आरोपितों ने रुपयों की मांग शुरू कर दी। पीड़ित को मामले की जानकारी तब हुई जब उनके दोस्तों ने उनको फोन कर मामले की जानकारी दी और पूछा कि ऐसी क्या इमरजेंसी है जो रुपयों की जरूरत पड़ गई। तब उनको पता चला कि साइबर ठगों ने उनकी फर्जी फेसबुक आइडी बना ली है।

अधिकारी ने कहा

ग्रेटर नोएडा  के डीसीपी राजेश कुमार सिंह ने कहा क‍ि‍ मेरी लोगों से अपील है कि यदि मेरी नाम की फेसबुक आइडी से फ्रेंड रिक्वेस्ट आए तो उसको स्वीकार न करें। मेरे नाम का प्रयोग कर साइबर ठग लोगों से रुपयों की मांग कर रहे है। मामले की शिकायत साइबर सेल में दर्ज करा दी गई है।

बता दें कि अभी पूरा प्रशासन कोरोना वायरस (कोविड 19) से लड़ने में जुटा है। जिले में कोरोना पीड़ित मरीजों की संख्या 102 हो गई है। हालांकि यह राहत की बात रही कि सोमवार से मंगलवार को सिर्फ दो मरीज ही कोरोना पॉजिटिव निकले हैं ।

14.48 लाख की हो है चुकी स्क्रीनिंग

जिले में बने 30 हॉट स्पॉट क्षेत्रों में जिला प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग की टीमें 4 लाख 53 हजार 822 घरों में पहुंचकर अब तक 14 लाख 48 हजार 890 लोगों की स्क्रीनिंग कर चुकी है। साथ ही अब तक 1166 यात्रियों को खोजा जा चुका है। यह वे लोग है, जो अब तक स्वास्थ्य विभाग की पकड़ से दूर थे। इनमें कुछ बाहरी जिलों व कुछ बाहरी राज्यों के रहने वाले हैं।

Posted By: Prateek Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस