ग्रेटर नोएडा [धर्मेंद्र चंदेल]। ग्रेटर नोएडा वेस्ट के बिसरख गांव को लंकापति रावण की जन्मस्थली माना जाता है। गांव में पहले रामलीला का मंचन नहीं होता था। रावण के पुतले का कभी दहन नहीं हुआ। पूर्व में जब भी ग्रामीणों ने रावण के पुतले का दहन किया तो अपशकुन हो जाता था।

राम को मानते हैं आदर्श, पर रावण के पुतले का नहीं करते थे दहन

गांव के लोग भगवान राम को अपना आदर्श मानकर उनकी पूजा करते हैं, लेकिन वे रावण को गलत नहीं मानते थे। यही कारण था कि बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक विजयदशमी का त्योहार भी गांव में हर्षाेल्लास से नहीं मनाया जाता था।

समय के साथ आया गांव के लोगों की सोच में बदलाव

यह अलग बात है कि विजयदशमी के मौके पर गांव में पहले मातम जैसा माहौल रहता था। समय के साथ अब लोगों की सोच में बदलाव आया है। लोगों को न तो अब रामलीला के मंचन से परहेज हैं और न रावण दहन से। देश दुनिया में रावण को लेकर जो अवधारणा लोगों में है, वही अब बिसरख क्षेत्र के लोगों की भी सोच है। विजयदशमी का त्योहार भी लोग धूमधाम से मनाने लगे हैं।

बिसरख को रावण की जन्मस्थली माना जाता है। मान्यता है कि गांव में अष्टभुजाधारी शिवलिंग की स्थापना रावण के पिता ऋषि विश्रवा ने की थी। पुराणों में भी इसका उल्लेख है। इसी शिवलिंग के पास बैठकर उन्होंने घोर तपस्या की थी। इसके बाद ही रावण का जन्म हुआ। ऋषि विश्रवा के नाम पर ही गांव का नाम बिसरख पड़ा। मंदिर के पुजारी का दावा है कि ऐसा शिवलिंग हरिद्वार तक किसी मंदिर में नहीं है। चर्चित तांत्रिक चंद्रास्वामी ने 1984 में मंदिर की खुदाई कराई थी। बीस फीट तक खुदाई के बाद भी शिवलिंग का छोर नहीं मिला था। खुदाई के दौरान चंद्रास्वामी को 24 मुख का शंख मिला था। इसे वह अपने साथ ले गया था। मंदिर के पास ही एक सुरंग मिली थी, जो थोड़ी दूर खंडरों में जाकर समाप्त हो गई। अब भी यह सुरंग मंदिर के पास बनी हुई है। पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर भी एक बार शिव मंदिर पर आकर पूजा अर्चना कर चुके हैं। मान्यता है कि जो भी व्यक्ति मंदिर पर पूजा अर्चना करता है, उसकी मनोकामना पूरी हो जाती है।

 पुजारी महंत रामदास की मानें तो बिसरख के इसी मंदिर पर ऋषि विश्र्वा ने घोर तपस्या की थी। भगवान शिव ने खुश होकर ऋषि विश्र्वा को पुत्र होने का वरदान दिया था। इसके बाद रावण का जन्म हुआ। गांव में विजय दशमी का त्योहार अब धूमधाम से मनाया जाता है।

Air Force Day: मंगलवार को दुनिया देखेगी भारतीय वायुसेना का दम, उड़ान भरेंगे युद्धक विमान

नेताओं के 'बेटा-बेटी' बने डूबती कांग्रेस की नई मुसीबत, अब क्या करेंगी सोनिया गांधी?

 16 करोड़ से अधिक लोग और यह 'हसीना' कभी नहीं भूल पाएंगे भारत का यह अहसान

दिल्ली-NCR की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां पर करें क्लिक

 

Posted By: JP Yadav

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप